जयदेव उनादकट की अगुवाई में सौराष्ट्र बना रणजी ट्रॉफी चैंपियन

Ranji Trophy
पुनः संशोधित शुक्रवार, 13 मार्च 2020 (17:21 IST)
राजकोट। कप्तान जयदेव उनादकट के महत्वपूर्ण मौके पर शानदार स्पैल से सौराष्ट्र ने शुक्रवार को यहां बंगाल के खिलाफ पहली पारी में बढ़त के आधार पर पहली बार रणजी ट्रॉफी चैंपियन बनने का गौरव हासिल किया। बंगाल पांचवें दिन का खेल शुरू होने से पहले पहली पारी में बढ़त हासिल करने की बेहतर स्थिति में दिख रहा था।
अनुस्तुप मजूमदार (63) और अर्णब नंदी (नाबाद 40) ने गुरुवार को अंतिम सत्र में 91 रन जोड़कर टीम की उम्मीदें जगा दी थीं, लेकिन सेमीफाइनल में गुजरात के खिलाफ अंतिम दिन 7 विकेट लेकर सौराष्ट्र को फाइनल में पहुंचाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले उनादकट ने फिर से सही समय पर बेहतरीन गेंदबाजी की और अपनी टीम को इतिहास रचने के करीब पहुंचाया।

बाएं हाथ के इस तेज गेंदबाज ने मजूमदार को पगबाधा आउट किया और फिर आकाशदीप को रन आउट किया। इन दोनों के 3 गेंद के अंदर आउट होने से मैच का पासा पलट गया। उनादकट ने सत्र में 13.23 की औसत से सर्वाधिक 67 विकेट लिए, लेकिन वह सर्वकालिक रिकॉर्ड से एक विकेट पीछे रह गए। सुबह के सत्र में एक घंटे 10 मिनट का खेल महत्वपूर्ण साबित हुआ।

इस बीच 27 रन बने और बंगाल ने अपने बाकी बचे चारों विकेट गंवाए। उसकी टीम 381 रन पर आउट हो गई और इस तरह से सौराष्ट्र ने पहली पारी में 44 रन की बढ़त हासिल की। सौराष्ट्र ने अपनी पहली पारी में 425 रन बनाए थे। सौराष्ट्र ने दूसरी पारी में जब 34 ओवर में 3 विकेट पर 105 रन बनाए थे तब दोनों कप्तानों ने मैच समाप्त करने पर सहमति जता दी।

सौराष्ट्र ने इस तरह से रणजी ट्रॉफी चैंपियन में अपना नाम लिखवाया, जबकि बंगाल का 1989-90 के बाद पहला खिताब जीतने का इंतजार बढ़ गया। उप विजेता बनने के बावजूद बंगाल के लिए यह यादगार सत्र रहा और वह 13 साल बाद फाइनल में पहुंचा। उसकी तरफ से तेज गेंदबाजी की तिकड़ी आकाशदीप, मुकेश कुमार और ईशान पोरेल तथा अनुभवी बल्लेबाज मनोज तिवारी और मजूमदार ने अहम भूमिका निभाई।

सौराष्ट्र के लिए शेल्डन जैकसन, अर्पित वासवदा और कप्तान उनादकट की भूमिका महत्वपूर्ण रही। पांचवें दिन चेतन सकारिया के साथ गेंदबाजी का आगाज करने वाले उनादकट ने शुरू में रक्षात्मक क्षेत्ररक्षण लगाया, क्योंकि चौथे दिन टीम ने बंगाल को आसानी से रन बनाने दिए थे।

सौराष्ट्र का सारा दारोमदार कप्तान पर टिका था। उन्होंने अपने महत्वपूर्ण ओवर से पहले 32 ओवर किए थे और उन्हें विकेट नहीं मिला था, लेकिन फिर भी उनादकट ने हिम्मत नहीं हारी और मुश्किल परिस्थितियों में खुद जिम्मा संभाला। मजूमदार ने 58 और नंदी ने 28 रन से अपनी पारी आगे बढ़ाई और लग रहा था कि वे जरूरी 72 रन बनाकर अपनी टीम को पहली पारी में बढ़त दिला देंगे।

उनादकट ने ऐसे में तेजी से अंदर आती गेंद पर मजमूदार को पगबाधा आउट करके नंदी के साथ उनकी 98 रन की साझेदारी समाप्त की। मजूमदार को पैवेलियन भेजने के बाद उनादकट ने अपनी सतर्कता से आकाशदीप को रन आउट किया। आकाशदीप क्रीज के बाहर खड़े थे। विकेटकीपर ने इसे भांप लिया, लेकिन उनका सीधा थ्रो विकेट पर नहीं लगा और ऐसे में गेंदबाज ने विकेट उखाड़ा।

इस तरह से सौराष्ट्र को 3 गेंद के अंदर दूसरा विकेट मिल गया। कोरोना वायरस के खतरे के कारण यह मैच खाली स्टेडियम में खेला जा रहा था, लेकिन सौराष्ट्र के खिलाड़ियों का जश्न स्टेडियम को गुंजायमान करने के लिए पर्याप्त था। इसके 5 ओवर बाद धर्मेन्द्र सिंह जडेजा ने मुकेश कुमार को शार्ट लेग पर कैच करवाया।

इसके लिए उन्होंने डीआरएस का सहारा लिया। जब बंगाल 55 रन पीछे था तब नंदी ने अपनी तरफ से काफी प्रयास किए। उनादकट ने 11वें नंबर के बल्लेबाज ईशान पोरेल को पगबाधा आउट करके बंगाल की पारी का अंत किया।
फोटो सौजन्‍य : टि्वटर


और भी पढ़ें :