मिताली राज-झूलन गोस्वामी ने कर दिया वह कारनामा, जो नहीं कर सके थे धोनी, द्रविड़, गांगुली, कुंबले

पुनः संशोधित बुधवार, 16 जून 2021 (18:25 IST)
इंग्लैंड और भारतीय महिला क्रिकेट टीम के बीच आज से ब्रिस्टल के काउंटी क्रिकेट स्टेडियम में एकमात्र टेस्ट मैच शुरु हो चुका है। फैंस के बीच इस मुकाबले को लेकर एक अलग ही उत्साह देखने को मिल रहा है, क्योंकि भारतीय महिला टीम सात सालों के एक लंबे अंतराल के बाद टेस्ट मैच खेल रही है।
मैच की शुरुआत मेजबान इंग्लैंड के टॉस जीतने के साथ हुई और टीम ने पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया। टेस्ट मैच के शुरू होने के साथ ही भारतीय कप्तान और दिग्गज तेज गेंदबाज झूलन गोस्वामी के नाम पर एक बड़ा कीर्तिमान दर्ज हो गया।

दरअसल, मिताली और झूलन टीम इंडिया के लिए टेस्ट मैच खेलते हुए सबसे लंबे करियर वाली महिला क्रिकेटर बन गई हैं। मिताली राज और झूलन गोस्वामी ने साल 2002 में एक साथ अपने टेस्ट करियर का आगाज एक साथ ही किया था और आज दोनों का नाम इतिहास के पन्नों में दर्ज हो गया है।

मिताली और झूलन का टेस्ट करियर आज (19 साल और 154 दिन) पुराना हो गया है और इन दोनों के आगे अब सिर्फ (24 साल और एक दिन) का नाम आता है। आज यह रिकॉर्ड बनाने के साथ ही इन दोनों खिलाड़ियों ने के साथ कई दिग्गजों के रिकॉर्ड को भी पीछे छोड़ दिया।

झूलन और मिताली का टेस्ट करियर 19 साल 154 दिन का हो गया है। यह महिला क्रिकेटरों में वेरा बर्ट और मैरी हाइड के बाद सबसे ज्यादा है। न्यूजीलैंड की वेरा बर्ट का करियर 20 साल 335 और इंग्लैंड की मैरी हाइड का करियर 19 साल 211 रहा। आपको ये जानकर हैरानी होगी की इन दोनों महिला खिलाड़ियों के जितना लंबा टेस्ट करियर अनिल कुंबले, राहुल द्रविड़, सौरव गांगुली और महेंद्र सिंह धोनी का भी नहीं रहा।

मिताली ने अब तक भारत के लिए 10 टेस्ट मैच खेले हैं, जिसमें 51.00 के औसत से 663 रन बनाए हैं। तो वहीं झूलन गोस्वामी ने 10 टेस्ट मैचों में 16.62 के औसत से 40 विकेट झटके हैं। आपको टेस्ट मैचों की संख्या इतनी कम इसलिए नजर आ रही है क्योंकि भारतीय महिला टीम टेस्ट क्रिकेट कम ही खेलती है। हालांकि इंग्लैंड के बाद उन्हें ऑस्ट्रेलिया के साथ डे-नाइट टेस्ट मैच भी खेलना है।



और भी पढ़ें :