न किसी टीम को बनाने दिए 200 ना किसी बल्लेबाज को शतक, अंडर 19 विश्वकप में घातक रही भारतीय गेंदबाजी

Last Updated: रविवार, 6 फ़रवरी 2022 (01:46 IST)
हमें फॉलो करें
कहते हैं कि बल्लेबाज टीम को मैच जिताते हैं और गेंदबाज टूर्नामेंट। भारत की गेंदबाजी की सबसे घातक गेंदबाजी साबित हुई। भारत ने पूरे टूर्नामेंट में दक्षिण अफ्रीका, ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड जैसी टीमों को 200 रनों का आंकड़ा तक नही छूने दिया और ना ही किसी बल्लेबाज को 100 रन बनाने दिए।

फाइनल में इंग्लैंड को किया 189 रनों पर ढेर

तेज गेंदबाजों राज बावा (31 रन पर पांच विकेट) और (34 रन पर चार विकेट) की घातक गेंदबाजी से भारत ने इंग्लैंड को आईसीसी अंडर 19 विश्व कप के फ़ाइनल में शनिवार को 44.5 ओवर में 189 रन पर निपटा दिया।

इस विश्व कप में यह पहला मौका है जब इंग्लैंड की टीम आलआउट हुई है।जेम्स रियू ऐसे पहले बल्लेबाज लग रहे थे जो टीम इंडिया के सामने शतक बनाते हुए दिख रहे थे लेकिन 116 गेंदों पर 12 चौकों की मदद से 95 रन बनाकर वह लेग साइड में हवाई शॉट खेलकर एक बेहतरीन गेंद पर आउट हो गए।

सेमीफाइनल में ऑस्ट्रेलिया को समेटा 194 रनों पर

भारत ने 50 ओवर में पांच विकेट पर 290 रन का मजबूत स्कोर बनाने के बाद ऑस्ट्रेलिया को 41.5 ओवर में 194 रन पर निपटा दिया।स्पिनरों ने ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज़ों को बांधे रखा और एक समय 71/1 पर खड़ी ऑस्ट्रेलियाई टीम का स्कोर 125 रन पर सात विकेट हो गया। इसके बाद बस औपचारिकता ही बची थी।भारत की तरफ से विकी ओस्तवाल ने 42 रन पर तीन विकेट, निशांत सिंधु ने 25 रन पर दो विकेट और रवि कुमार ने 37 रन पर दो विकेट झटके। लचलन शॉ ही इस मैच में ऑस्ट्रेलिया की और से 66 गेंदो में 4 चौकों की मदद से 51 रन बना सके


क्वार्टर फाइनल मे बांग्लादेश से लिया बदला


क्वार्टर फाइनल मैच में पिछले चैंपियन बंगलादेश को पांच विकेट से हराकर सेमीफाइनल में जगह बना ली । घातक गेंदबाजी की बदौलत भारत ने बंगलादेश को 37.1 ओवर में महज 111 रन पर ऑलआउट कर दिया। पिछली बार बंगलादेश ने फ़ाइनल में भारत को हरा कर ख़िताब पर कब्ज़ा जमाया था। बाएं हाथ के तेज़ गेंदबाज़ रवि कुमार ने अपने पहले स्पेल में 3 विकेट लिए, वहीं बाएं हाथ के स्पिन गेंदबाज़ विकी ओस्तवाल ने भी दो विकेट झटके।

दक्षिण अफ्रीका को भी सस्ते में समेटा

अपने पहले लीग मैच में 232 रनों पर सिमटने के बाद भी भारत ने इस टूर्नामेंट में विजयी शुरुआत की। स्पिनर ने महज 28 रन देकर 5 विकेट लिए और राज बावा ने 47 रनों पर 4 विकेट लेकर दक्षिण अफ्रीका को महज 187 रनों पर समेट दिया। सिर्फ डेवाल्ड ब्रेविस ही 99 गेंदो में 6 चौके और 2 छक्कों की दद से 65 रन बना पाए।

छोटी टीमें तो आगे ही नहीं टिक पायी

जब बड़ी टीमों के बल्लेबाजों ने ही भारतीय गेंदबाजों के आगे घुटने टेक दिए थे तो फिर आयरलैंड और युगांडा के बस का तो कुछ था ही नहीं। आयरलैंड 131 तो युगांडा 79 रनों पर सिमट गई।

गेंदबाजी में भारत सबसे अव्वल

भारतीय गेंदबाजों ने टूर्नामेंट में 60 विकेट चटकाए हैं, जो इंग्लैंड की तुलना में 5 विकेट अधिक है।लेफ्ट आर्म स्पिनर विक्की ओस्तवाल भारत के लिए 10.75 के औसत से 12 विकेट लेकर सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज हैं।



और भी पढ़ें :