दीपक चाहर ने 'हैट्रिक' लेकर इतिहास रचा, भारत ने इस वर्ष की पहली घरेलू मैदान पर टी-20 सीरीज जीती

पुनः संशोधित रविवार, 10 नवंबर 2019 (23:31 IST)
नागपुर। तेज गेंदबाज ने कहर बरपाते हुए हैट्रिक सहित 6 विकेट लेकर को तीसरे और निर्णायक टी-20 मुकाबले में रविवार को 144 रन पर ढेर कर दिया और ने यह मुकाबला 30 रन से जीतकर 3 मैचों की सीरीज 2-1 से अपने नाम कर ली।
चाहर ने टी-20 इतिहास की सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी करते हुए 3.2 ओवर में मात्र 7 रन देकर 6 विकेट झटके और भारत को सीरीज जीत दिलाने के साथ ही प्लेयर ऑफ द मैच भी बन गए।

चाहर का अच्छा साथ दिया शिवम दुबे ने जिन्होंने अपनी सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी करते हुए 30 रन पर 3 विकेट लिए। चाहर ने टी-20 में हैट्रिक लेने वाले भारत के पहले गेंदबाज बन गए हैं। वे क्रिकेट के सभी फॉर्मेट में हैट्रिक लेने वाले भारत के सातवें गेंदबाज भी बन गए हैं।
भारत ने शीर्ष क्रम के बल्लेबाजों लोकेश राहुल (52) और श्रेयस अय्यर (62) के शानदार अर्द्धशतकों से 5 विकेट पर 174 रन का चुनौतीपूर्ण स्कोर बनाया और बांग्लादेश की चुनौती को 19.2 ओवर में 144 रन पर ढेर कर दिया।

भारत ने दिल्ली में पहला मैच हारने के बाद शानदार वापसी करते हुए राजकोट और में अगले दोनों मैच जीतकर सीरीज अपने नाम की। यह चौथा मौका है जब भारत ने पहला मैच हारने के बाद वापसी करते हुए सीरीज जीती है।
बांग्लादेश की तरफ से मोहम्मद नईम ने 81 रन बनाए, लेकिन उनके आउट होते ही बांग्लादेश का संघर्ष समाप्त हो गया। दीपक चाहर ने बांग्लादेश के शीर्ष और निचले क्रम को और शिवम दुबे ने मध्य क्रम को ध्वस्त किया। चाहर ने 18वें ओवर की आखिरी और 20वें ओवर की पहली दो गेंदों पर विकेट लेकर अपनी हैट्रिक पूरी की।

टॉस हारने के बाद पहले पहले बल्लेबाजी करने उतरी भारतीय टीम को दूसरे ओवर में ही झटका लग गया जब पिछले मैच के प्लेयर ऑफ द मैच तथा कप्तान रोहित शर्मा मात्र 3 रन बनाकर शफीउल इस्लाम की गेंद पर बोल्ड हो गए।
रोहित के साथी शिखर धवन ने एक बार फिर अच्छी शुरुआत की लेकिन वे अच्छी शुरुआत को बड़े स्कोर में नहीं बदल पाए और 19 रन बनाकर आउट हो गए। शिखर ने 16 गेंदों पर चार चौकों की मदद से 19 रन बनाये। शिखर को भी शफीउल ने आउट किया।

2 विकेट मात्र 35 रन पर गिर जाने के बाद राहुल और अय्यर ने भारतीय पारी को संभाला और तीसरे विकेट के लिए 59 रन की महत्वपूर्ण साझेदारी की। राहुल ने अपना तीसरा टी-20 अर्द्धशतक बनाया जबकि अय्यर ने जबरदस्त छक्के उड़ाते हुए अपना पहला अर्धशतक बनाया।
राहुल ने 35 गेंदों पर 52 रन में 7 चौके लगाए। अय्यर ने मात्र 33 गेंदों में 3 चौके और 5 छक्के उड़ाते हुए 62 रन ठोके। अय्यर ने 15 वें ओवर में अफीफ हुसैन की गेंदों पर लगातार 3 छक्के मारे और इसी ओवर में अपना पहला टी-20 अर्द्धशतक पूरा कर लिया।

राहुल का विकेट अल अमीन हुसैन ने लिया। राहुल का विकेट 94 के स्कोर पर गिरा। मैदान पर उतरे ऋषभ पंत के साथ अय्यर ने चौथे विकेट के लिए 45 रन जोड़े और इस साझेदारी में अय्यर का ही बल्ला बोला।
पंत एक बार फिर फ्लॉप रहे और कप्तान रोहित शर्मा तथा टीम प्रबंधन के तमाम समर्थन के बावजूद सस्ते में निपट गए। पंत नौ गेंदों में 6 रन ही बना सके। सौम्य सरकार ने 17वें ओवर में पंत और अय्यर को आउट किया।

अय्यर का विकेट गिरने के बाद मनीष पांडेय ने मोर्चा संभाला और 13 गेंदों पर 3 चौकों की मदद से नाबाद 22 रन बनाकर भारत को 174 तक पहुंचाया। पांडेय के साथ शिवम दुबे नौ रन पर नाबाद रहे। बांग्लादेश की तरफ से शफीउल और सरकार ने दो-दो विकेट लिए।
लक्ष्य का पीछा करते हुए बांग्लादेश की शुरुआत भी खराब रही और उसने 12 रन पर अपने 2 विकेट गंवा दिए। तेज गेंदबाज दीपक चाहर ने तीसरे ओवर में लिटन दास और सौम्य सरकार को आउट कर दिया। दास ने 9 रन बनाए जबकि सरकार का खाता नहीं खुला।

इसके बाद मोहम्मद नईम और मोहम्मद मिथुन ने तीसरे विकेट के लिए 98 रन की शानदार साझेदारी कर भारतीयों के माथे पर पसीना ला दिया।

यह जोड़ी खतरनाक होती जा रही थी, लेकिन चाहर ने 13वें ओवर की आखिरी गेंद पर मिथुन को आउट कर इस साझेदारी को तोड़ा और अपने कप्तान रोहित शर्मा को राहत दी। मिथुन का कैच राहुल ने लपका।
मिथुन ने 29 गेंदों पर 27 रन में 2 चौके और एक छक्का लगाया। मिथुन का विकेट 110 के स्कोर पर गिरा। शिवम दुबे ने अगले ओवर की पहली गेंद पर खतरनाक बल्लेबाज मुशफिकुर रहीम को बोल्ड कर दिया।

बांग्लादेश का 15 ओवर के बाद स्कोर 125 रन था और उसकी तमाम उम्मीदें नईम पर टिकी हुई थीं, लेकिन मध्यम तेज गेंदबाज शिवम ने 16वें ओवर की तीसरी गेंद पर नईम को बोल्ड कर भारत के रास्ते की सबसे बड़ी बाधा दूर कर दी। नईम ने अपनी सर्वश्रेष्ठ पारी खेली और 48 गेंदों पर 81 रन में 10 चौके और दो छक्के लगाए।
शिवम ने अगली गेंद पर अफीफ हुसैन का कैच खुद लपककर भारत की सीरीज जीत का मार्ग प्रशस्त कर दिया। शिवम ने अपनी पहली नौ गेंदों पर 21 रन दिए थे, लेकिन इसके बाद उन्होंने शानदार वापसी करते हुए 15 गेंदों में मात्र 9 रन देकर 3 विकेट झटके।

लेग स्पिनर युजवेंद्र चहल ने 17वें ओवर की पांचवीं गेंद पर बांग्लादेश के कप्तान महमूदुल्लाह को बोल्ड कर मेहमान टीम का संघर्ष समाप्त कर दिया। महमूदुल्लाह ने 10 गेंदों पर आठ रन बनाए। चहल ने इसके साथ ही टी-20 में 50 विकेट भी पूरे कर लिए।
चाहर ने 19वें ओवर की आखिरी गेंद पर शफीउल इस्लाम को आउट कर अपना चौथा विकेट ले लिया। उन्होंने 20वें ओवर की पहली दो गेंदों पर मुस्ताफिजुर रहमान और अमीनुल इस्लाम को आउट कर अपनी हैट्रिक पूरी की जिसके साथ ही पूरा भारतीय खेमा ख़ुशी से झूम उठा। (वार्ता)



और भी पढ़ें :