क्रिकेट की पिच पर Gautam Gambhir को झटका, नहीं बन पाएंगे दिल्ली कैपिटल्स के सह-मालिक

वेबदुनिया न्यूज डेस्क| Last Updated: शुक्रवार, 10 जनवरी 2020 (00:18 IST)
नई दिल्ली। अपनी कप्तानी में आईपीएल (IPL) में 2 बार कोलकाता नाइटराइडर्स को खिताब दिलाने वाले गौतम गंभीर (Gautam Gambhir) राजनीति की पिच पर धुआंधार बल्लेबाजी करने के बाद भी क्रिकेट मैदान का मोह छोड़ने को तैयार नहीं हैं। स्टार स्पोर्ट्‍स के लिए क्रिकेट कॉमेंट्री करके अपना शौक पूरा करने वाले गंभीर का इरादा आईपीएल फ्रेंचाइजी (Delhi Capitals) का बनने का था, लेकिन फिलहाल उन्हें कामयाबी नहीं मिली है।
दिल्ली कैपिटल्स पर का मालिकाना हक है। पिछले साल इस टीम के साथ मेंटॉर के रूप में भारतीय टीम के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली जुड़े थे लेकिन बीसीसीआई के मुखिया बनने के बाद उनके रिक्त स्थान पर गंभीर की नजर थी।

गंभीर दिल्ली कैपिटल्स के मेंटॉर बनने की ख्वाहिश रखते हैं लेकिन इसमें सबसे बड़ा रोड़ा ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान रिकी पोंटिंग बने हुए हैं क्योंकि पोंटिंग के साथ दिल्ली कैपिटल्स के लिए एक मजबूत सपोर्ट स्टाफ है।

पता चला है कि दिल्ली के भाजपा सांसद की भले ही दिल्ली कैपिटल्स में सह-मालिक बनने की तमन्ना फिलहाल पूरी नहीं हो पा रही हो लेकिन यह भी संभव है कि उन्हें टीम के मालिकाना हक में 10 फीसदी की हिस्सेदारी दी जा सकती है।
2019 में आईपीएल के 12वें सीजन में दिल्ली का प्रदर्शन पिछले सालों के मुकाबले सबसे बेहतरीन रहा था। गांगुली और पोंटिंग की मेहनत साफ दिखाई दे रही थी और वह अंक तालिका में 18 अंकों के साथ तीसरे स्थान पर रहा था। दिल्ली ने 14 मैच खेले थे और 9 जीते व 5 मैच हारे थे। दिल्ली का नेट रनरेट भी +0.044 का रहा था।
में दिल्ली कैपिटल्स मजबूती के साथ मैदान में उतरेगी। जहां एक ओर उसने ऋषभ पंत को 15 करोड़ की मोटी सैलरी देने का फैसला किया है तो दूसरी तरफ उसने पंजाब से आर. अश्विन को लिया है। श्रेयस अय्यर तो पहले से ही हैं।

दिल्ली कैपिटल्स ने इस बार की आईपीएल नीलामी में 8 खिलाड़ी खरीदे हैं। ये खिलाड़ी हैं जेसन राय, एलेक्स कैरी, शिमरोन हेटमायर‍, क्रिस वॉक्स, मार्कस स्टोयनिस, तुषार देशपांडे, ललित यादव और मोहित शर्मा।
आईपीएल में दिल्ली कैपिटल्स के चढ़ते ग्राफ को देखते ही भाजपा सांसद गंभीर ने टीम का सह-मालिक बनने का फैसला किया था, लेकिन फिलहाल जीएमआर और जेएसडब्ल्यू स्पोर्ट्स ने इस मामले में उनके साथ कोई करार नहीं किया है।



और भी पढ़ें :