1. खेल-संसार
  2. क्रिकेट
  3. समाचार
  4. Cheteshwar Pujara smashes fifth test ton in country as Sundar gets dream debut
Written By
Last Updated: गुरुवार, 21 जुलाई 2022 (14:10 IST)

चेतेश्वर पुजारा ने काउंटी क्रिकेट में जड़ा पांचवां शतक, सुंदर का ड्रीम डेब्यू

लंदन: काउंटी क्रिकेट में मंगलवार का दिन दो भारतीयों के नाम रहा। ससेक्स की ओर से खेलते हुए चेतेश्वर पुजारा ने अपना शानदार फ़ॉर्म जारी रखा और सीज़न का अपना पांचवां शतक लगाया। दूसरी तरफ़ स्पिन ऑलराउंडर वॉशिंगटन सुंदर ने काउंटी क्रिकेट में अपना डेब्यू करते हुए चार विकेट लिए।

मिडिलसेक्स के ख़िलाफ़ इस सीज़न का अपना सातवां मैच खेलने उतरे पुजारा अपने पुराने रंग में दिखें और टॉम ऐल्सॉप (135) के साथ तीसरे विकेट के लिए 219 रन जोड़े। इस साझेदारी की मदद से ससेक्स ने पहले दिन चार विकेट पर 328 रन बनाए। पुजारा 115 रन पर नाबाद हैं।

मिडिलसेक्स की तरफ़ से तेज़ गेंदबाज़ टॉम हेल्म ने 63 रन देकर 3 विकेट लिए, वहीं भारतीय तेज़ गेंदबाज़ उमेश यादव को एक भी विकेट नहीं मिल सका। उमेश सीज़न के अपने पहले काउंटी मैच की दो पारियों में भी सिर्फ़ दो ही विकेट ले पाए थे। हालांकि इस दौरान नाबाद 44 रन की आतिशी पारी खेल उन्होंने सुर्ख़ियां बटोरी थी।
दूसरी तरफ़ सुंदर ने नॉर्थैंप्टनशायर के ख़िलाफ़ लंकाशायर की ओर से पहले दिन 4 विकेट लिए। उन्होंने विपक्षी कप्तान विल यंग को अपने स्पेल की दूसरी ही गेंद पर 2 रन के निजी स्कोर पर आउट किया। इसके बाद उन्होंने क्रीज़ पर टिक कर खेल रहे रायन रिकलटन (22) और रॉब कियो (54) को भी चलता किया। अंत में दिन का अंतिम विकेट भी सुंदर को मिला, जब उन्होंने टॉम टेलर को पवेलियन भेजा। सुंदर की गेंदबाज़ी की बदौलत लंकाशायर, नॉर्थैंप्टनशायर को पहले दिन 218 रन पर रोकने में क़ामयाब रही, जबकि उसके सात विकेट गिर चुके हैं।

दिन के खेल के बाद सुंदर ने कहा, "मुझे यहां पर आकर और लंकाशायर के लिए काउंटी डेब्यू करके बहुत अच्छा लग रहा है। मुझे सुबह में मार्क चिल्टन से डेब्यू कैप मिली जो कि मेरे लिए एक बेहतरीन अनुभव था। टीम के सभी सदस्य बहुत सहयोग और सपोर्ट करने वाले हैं। उन्होंने मेरी गेंदों पर कुछ बेहतरीन कैच लपके। मुझे लगता है कि मैंने अच्छी लाइन-लेंथ पकड़कर गेंदबाज़ी की।"

सुंदर ने भरोसा जताया कि वह काउंटी क्रिकेट से बहुत कुछ सीखकर जाएंगे। उन्होंने कहा, "मैं लाल गेंद की क्रिकेट में ख़ुद को और भी समझना चाहता हूं। यहां परिस्थितियां भारत से बहुत अलग हैं। इन परिस्थितियों में अलग-अलग शैली के खिलाड़ियों के ख़िलाफ़ खेलकर मैं यहां से बहुत कुछ सीखना चाहता हूं।"(वार्ता)
ये भी पढ़ें
ISSF world cup में मेजबान से भी आगे रहा भारत, जीते सबसे ज्यादा मेडल