लाल किताब अनुसार सूर्य के अशुभ होने से होती हैं ये 5 बीमारियां, जानिए 5 उपाय

lal kitab
अनिरुद्ध जोशी| Last Updated: शनिवार, 16 नवंबर 2019 (15:22 IST)
हमारे शरीर में कुछ विशेष स्थान पर ग्रहों का प्रभाव पड़ता है। यदि वह खराब हो या कि उसे खराब कर लिया गया हो तो हर व्यक्ति को कुछ न कुछ बीमारी जरूर देता है। आओ जानते हैं कि ग्रह से होती है कौनसी बीमारियां और क्या हो सकता है उसका इलाज। यहां सामान्य जानकारी प्रस्तुत है।
सूर्य की बीमारी:-
दिमाग समेत शरीर का दायां भाग सूर्य से प्रभावित होता है।

1.सूर्य के अशुभ होने पर शरीर में अकड़न आ जाती है।
2.मुंह में थूक बना रहता है। मुंह और दांतों में तकलीफ हो जाती है।
3.दिल का हो जाता है, जैसे धड़कन का कम-ज्यादा होना।
4.सिरदर्द बना रहता है। व्यक्ति अपना विवेक खो बैठता है।
5. बेहोशी का रोग हो जाता है।

सामान्य :
1.प्रतिदिन सूर्य को अर्घ्य देना चाहिए।
2.रविवार का व्रत रखना चाहिए। पिता का सम्मान करें।
3.मुंह में थोड़ासा गुड़ डालकर ऊपर से पानी पीकर ही घर से निकलें।
4.सोना, गेहूं, गुड़ या तांबे का दान करना चाहिए या बहते पानी में गुड़ प्रवाहित करें।
5.कुंडली में सूर्य जिस भाव में अशुभ होकर स्थित हो उस भाव और ग्रह अनुसार उपाय करें।
इसके अलावा घर की पूर्व दिशा वास्तुशास्त्र अनुसार ठीक करें। आदित्य हृदय स्तोत्र का पाठ करें, गायत्री मंत्र का जाप करें या ॐ रं रवये नमः या ॐ घृणी सूर्याय नमः 108 बार (1 माला) जाप करें।



और भी पढ़ें :