रविवार को क्या करें और क्या नहीं, जानिए

अनिरुद्ध जोशी| पुनः संशोधित शनिवार, 23 मई 2020 (09:16 IST)
रविवार की प्रकृति ध्रुव है। रविवार सूर्य का दिन होता है। यह भगवान विष्णु और सूर्यदेव का दिन भी है। हिन्दू धर्म में इसे सर्वश्रेष्ठ वार माना गया है। अच्छा स्वास्थ्य व तेजस्विता पाने के लिए रविवार के दिन उपवास रखना चाहिए। कुंडली में सूर्य राजा के समाना होता है। तो आओ जानते हैं रविवार को लाल किताब और ज्योतिष के अनुसार कौन से कार्य करना चाहिए और कौन से नहीं।

ये कार्य करें :
1. इस दिन भृकुटी पर लाल चंदन या हरि चंदन लगाएं।
2. रविवार अच्छे-अच्छे पकवान खाने के लिए उत्तम दिन है।
3. इस दिन पूर्व, उत्तर और अग्निकोण में यात्रा कर सकते हैं।
4. यह दिन गृहप्रवेश की दृष्टि से भी उचित है।
5. इस दिन सोना, तांबा खरीद सकते हैं या धारण कर सकते हैं।
6. इस दिन अग्नि या बिजली के सामान भी खरीद सकते हैं।

ये कार्य न करें :
1. रविवार को नमक नहीं खाना चाहिए। इससे स्वास्थ्य पर असर पड़ता है और हर कार्य में बाधा आती है।
2. इस दिन पश्‍चिम और वायव्य दिशा में यात्रा न करें।
3. चावल में दूध और गुड़ मिलाकर खाएं।
4. गेहूं और गुड़ को लाल कपड़े में बांधकर दान करें।
5. सूर्य को उच्च करने के लिए बहते जल में गुड़ और चावल प्रवाहित करें।
6. कोई भी नया काम शुरू करने से पहले गुड़ या मिठाई खाएं और पानी पिएं।
7. घर में सुख-शांति के लिए मिट्टी का लाल रंग का बंदर, जिसके हाथ खुले हो़, घर में सूर्य तरफ पीठ करके रखें, ऐसा रविवार को करें।




और भी पढ़ें :