बाल कविता : खुशियों के पैगाम

child

आई गलगला से है मौसी,
चाची सदर बाजार से।

मामा आए स्कूटर से,
मामी आई कार से।
नहीं पता ये सब क्यों आए,
क्यों आए हैं बिना बुलाए।

क्या रसगुल्ले लेकर आए,
या फिर मुझे चिढ़ाने आए?

दादाजी भी तो आए हैं,
जो कल उठे बुखार से।

कारण क्या है, क्यों यह हलचल,
तेरा बेटा कल।

शाम तलक नाना आएंगे,
अजब-गजब-सा कुछ लाएंगे।
चक्की वाली बुढ़िया आई,
बुआ के परिवार से।

किरणें उजलीं, धूप सुनहली,
बगिया लाल हरहरी पीली।

कल का दिन मस्ती का होगा,
तेरा जनम दिवस कल होगा।

तुमको सब संसार से।

 

और भी पढ़ें :