अमेरिकी सीनेटर ने की पाकिस्तान के ईशनिंदा कानून की आलोचना

वॉशिंगटन| पुनः संशोधित शनिवार, 28 मई 2016 (14:13 IST)
वॉशिंगटन। मार्को रुबियो ने के की आलोचना करते हुए कहा है कि यह देश में धार्मिक अल्पसंख्यकों के खिलाफ हिंसा को और उन्हें हाशिए पर धकेल दिए जाने को अब भी 'बढ़ावा' देता है।
रिपब्लिकन पार्टी की ओर से पूर्व में राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार रह चुके रुबियो ने इस सप्ताह सीनेट में कहा कि पाकिस्तान में हमने ईशनिंदा नियमों की आलोचना के लिए धार्मिक स्वतंत्रता के पैरोकारों की हत्या होती देखी है। 
 
उन्होंने मार्च 2011 में की गई शाहबाज भट्टी की हत्या का हवाला देते हुए कहा कि पाकिस्तान के अल्पसंख्यक मामलों के संघीय मंत्री को पाकिस्तानी तालिबान ने उनकी मां के घर के बाहर गोली मार दी थी। वे पाकिस्तान कैबिनेट में कार्यरत एकमात्र ईसाई व्यक्ति थे।
 
रुबियो ने कहा कि 5 साल गुजर गए हैं। पाकिस्तानी सरकार उनके हत्यारों को न्याय के कटघरे में लाकर खड़ा करने में नाकाम रही है। वह उस ईशनिंदा कानून में संशोधन करने में भी विफल रही है, जो आज भी हिंसा, दंडमुक्ति के साथ हत्या और धार्मिक अल्पसंख्यकों को हाशिए पर धकेले जाने को बढ़ावा देता है। (भाषा)



और भी पढ़ें :