क्यूरियोसिटी को मंगल पर दिखे यूएफओ!

USA
GOV

क्यूरियोसिटी द्वारा इस आशय की तस्वीरें भेजे जाने के बाद दुनियाभर के वैज्ञानिकों और खोजियों के बीच बहस छिड़ गई है। दरअसल मंगल पर वैज्ञानिक अभियान के तहत उतरे क्यूरियोसिटी ने हाल ही में कुछ तस्वीरें भेजी है जिसमें आकाश में दिखने वाले रोशनी के चार धब्बे दिखाई पड़े हैं।

डेलमेमेप्रकाशिलेअनुसाअनआइडेंटिफाइड फ्लाइंग ऑब्जेक्ट(यूएफओ) या उड़नतश्तरी पर अध्ययन करने वालों का दावा है कि ये के हैं जो मंगल पर मानव की गतिविधियों पर नजर रख रहे हैं।

नासा की वेबसाइट पर प्रकाशित हाई रिजोल्यूशन फोटो का अध्ययन करने के बाद एलियन डिस्क्लोजर यूके संस्था के स्टीफन हैनार्ड ने यूट्युब पर एक वीडियो से इस तस्वीर पर सबका ध्यान आकर्षित करते हुए दावा किया था कि उन्होंने इस रहस्यमय फोटो का अध्ययन करने में कई अत्याधुनिक और शक्तिशाली फिल्टरों का इस्तेमाल किया।

जबकि नासा ने सफाई देते हुए बयान दिया है कि यह कोई एलियन विमान नहीं बल्कि केवल कैमरे के लेंस पर लगे कुछ दाग-धब्बे हैं। नासा के अंतरिक्ष यान क्यूरियोसिटी ने गुरुवार को अपनी पहली सफल यात्रा पूरी की। यान ने मंगल पर अपने लैंडिंग स्थान से कुल छह मीटर का सफर तय किया है और इसे अभी पूर्व की दिशा में कुल 400 मीटर का सफर तय करना है।

WD|
अमेरिका की अंतरिक्ष एजेंसी नासा द्वारा ग्रह पर भेजे गए रोवर क्यूरियोसिटी को मंगल पर अपने मिशन के दौरान क्षितिज पर कुछ अनोखी और अजीब से रोशनी तैरती नजर आई है।
नासा के प्रवक्ता का कहना है कि क्यूरियोसिटी पूरी तरह से काम कर रहा है। अंतरिक्ष पर भेजे गए पिछले यानों के मुकाबले क्यूरियोसिटी अधिक जटिल है। इसकी मदद से हमें आने वाले दिनों में काफी महत्वपूर्ण जानकारियां मिलने की उम्मीद है। (एजेंसिया/वेबदुनिया)



और भी पढ़ें :