0

होलाष्टक क्या है, 8 दिन क्यों हैं अशुभ, आखिर क्यों नहीं होते इन दिनों में शुभ काम

शुक्रवार,फ़रवरी 28, 2020
Holashtak 2020
0
1
आइए जानते हैं, वर्ष 2020 में कब मनाई जाएगी होली और किस दिन होगा होलिका दहन और क्या हैं शुभ मुहूर्त
1
2
उमरिया हिरनिया हो गई, देह इन्द्र-दरबार। मौसम संग मोहित हुए, दर्पण-फूल-बहार॥ शाम सिंदूरी होंठ पर, आंखें उजली भोर। भैरन नदिया सा चढ़े, यौवन ये बरजोर॥ तितली झुक कर फूल पर, कहती है आदाब।
2
3
मैंने कहा मित्र, धर्म के नाम पर, जनता को भड़काना, ऊंगली के इशारे पर देश को नचाना, हमारा काम नहीं है। होली के रंग में, इनका स्थान नहीं है। स्नेह के रंग में महकना, गुलाब-सा मुस्कुराना, चमन को सजाना संवारना, होली के प्रतीक हैं।
3
4
इस वर्ष 9 मार्च 2020, सोमवार को होलिका दहन किया जाएगा तथा 10 मार्च 2020, मंगलवार को रंगबिरंगा त्योहार होली हर्षोल्लास से मनाया जाएगा। आइ ए जानते हैं 9 मार्च 2020 को कब दहन करें होली....
4
4
5
होलाष्टक 2 मार्च से प्रारंभ हो रहा है। प्राचीन मान्यता अनुसार इस अवधि में नकारात्मक ऊर्जा का प्रभाव अधिक होता है। इन 13 कार्यों को कर आप समस्त दोषों से बच सकते हैं।
5
6
दीपावली के त्योहार की तरह होली में भी आप माता लक्ष्मी को प्रसन्न कर सकते हैं। इसके लिए आपको होलिका दहन पर पीली सरसों से हवन करना होगा। ऐसा करने पर आपकी हर शुभ मनोकामना पूरी होगी।
6
7
हिंदू पंचांग के अनुसार फाल्गुन माह की पूर्णिमा के दिन होली का पर्व मनाया जाता है और पंचमी को रंग पंचमी मनाई जाती है। होली का त्योहार मनाने का कई कारण है। परंपरागत रूप से, यह त्योहार बुराई पर अच्छाई की जीत के रूप में मनाया जाता है। इस दिन पांच प्रमुख ...
7
8
हिंदुओं का यह त्योहार भारत, श्रीलंका, नेपाल व मॉरिशस समेत दुनिया के कई देशों में मनाया जाता है। हर देश और राज्य में होली को अलग-अलग नाम से पुकारा जाता है। प्रत्येक राज्य में होली को मनाने के तरीके भी अलग-अलग हैं। आओ जानते हैं होली के संबंध में कुछ ...
8
8
9
अगर आप घोर आर्थिक समस्या से ग्रस्त हैं, तो होली पर यह चंद्र उपाय अवश्य करें। होली की रात में चंद्रोदय होने के बाद अपने घर की छत पर या खुली जगह जहां से चांद नजर आए पर खड़े हो जाएं।
9
10
होली का यह सबसे आसान लेकिन अनोखा उपाय है। जिस स्थान पर होली जलाई जाती रही हो, वहां पर होली जलने से एक दिन पहले की रात में एक मटकी में गाय का घी, तिल का तेल, गेहूं और ज्वार तथा एक तांबे का पैसा रखकर मटकी का मुंह बंद करके गाड़ आएं।
10
11
सबसे पहले बादाम की गिरी, तरबूज-खरबूज के बीज आदि को अलग-अलग बर्तन में रात भर भिगो कर रखें। दूसरे दिन बादाम का छिल्का उतार कर सिलबट्‍टे पर बारीक पीस लें।
11
12
होली ऐसा पर्व है जो पूरे भारत में लगभग एक स्‍वरूप में मनाया जाता है। हां, थोड़ा बहुत रूप और मनाने के रीति और रिवाजों में जरूर बदलाव हैं। रंगों की होली खेलने से पूर्व होलिका पूजन की परंपरा प्रचलित है। होलिका पूजन में इन 10 प्रमुख बातों का ध्यान रखना ...
12
13
होलाष्टक होली से पहले के 8 दिनों को कहा जाता है। इस वर्ष होलाष्टक 02 मार्च से प्रारंभ हो रहा है, जो 09 मार्च यानी होलिका दहन तक रहेगा। फाल्गुन मास के शुक्ल पक्ष की अष्टमी से लेकर पूर्णिमा ​तिथि तक होलाष्टक माना जाता है। 09 मार्च को होलिका दहन के ...
13
14
होली वसंत ऋतु में मनाया जाने वाला महत्वपूर्ण भारतीय त्योहार है। यह पर्व हिन्दू पंचांग के अनुसार फाल्गुन मास की पूर्णिमा को मनाया जाता है।
14
15
होली की बची हुई अग्नि और भस्म को अगले दिन प्रात: घर में लाने से घर को अशुभ शक्तियों से बचाने में सहयोग मिलता है तथा इस भस्म का शरीर पर लेपन भी किया जाता है।
15
16
देशभर में उत्तर प्रदेश के ब्रज मंडल के बरसाने की होली ज्यादा प्रसिद्ध है। बरसाना राधा रानी का जन्म स्थान है। वहां की होली को होरी या फागु उत्सव कहते हैं। इस होली को देखने के लिए दूर-दूर से लोग आते हैं। यहां कई तरह से होली खेलते हैं। जैसे रंग लगाकर, ...
16
17
सबसे पहले दो कप पानी लेकर शक्कर गला लें। फिर सभी मेवा सामग्री को मिक्स करके 3-4 घंटे के लिए भिगो कर रखें। त‍त्पश्चात पानी निथारकर मिक्सी में बारीक पीस लें।
17
18
सबसे पहले मैदे में घी का मोयन डालकर पानी की मदद से सख्त आटा गूंथ लें। एक कड़ाही में खोया भून लें। ठंडा छोने पर इसमें कोको पावडर, पिसी शक्कर, बादाम एसेंस एवं चॉकलेट चिप्स मिलाकर
18
19
शास्त्रों में फाल्गुन शुक्ल पक्ष का महत्व विशेष प्रकार की उपासना पूजा के लिए जाना जाता है। फाल्गुल शुक्ल की चतुर्थी को गणेश जी की प्रतिष्ठित प्रतिमा को विधिवत पूजन
19