0

गंगा दशहरा कब है, क्या है इस दिन का महत्व, घर बैठे कर सकते हैं गंगाजल के 10 प्रयोग

बुधवार,मई 18, 2022
0
1
Gyanvapi kua : शिव मंदिरों के पास आपको अक्सर कुआं, कुंड या कूप मिल जाएंगे, क्योंकि शौच, शुद्धि और आचमन ने साथ ही शिवजी पर जल अर्पित करने के लिए इसकी जरूरत होती है। बताया जा रहा है कि काशी स्थित ज्ञानवापी मस्जिद परिसर में ऐसा ही एक कुआं हैं। ...
1
2
Shukra gochar 2022 : शुक्र कुंभ राशि से निकलकर मीन में 27 अप्रैल 2022 को प्रवेश कर गया था जहां वह शुक्र 23 मई, 2022 की शाम 8:39 बजे तक रहने के बाद मेष राशि में गोचर करेगा। मेष के बाद 18 जून, 2022 की सुबह 8:28 बजे तक वृषभ राशि में ही रहने के बाद ...
2
3
Jyeshta month 2022: हिन्दू कैलेंडर के अनुसार ज्येष्ठ तीसरे नंबर का माह होता है। यह चैत्र और वैशाख माह के बाद आता है। इस बार ज्येष्ठ की शुरुआत अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार 17 मई 2022 से हो गई है। आओ जानते हैं कि इस माह में क्या खाएं और क्या नहीं। इस ...
3
4

19 मई 2022 : आपका जन्मदिन

बुधवार,मई 18, 2022
दिनांक 19 को जन्मे व्यक्ति का मूलांक 1 होगा। आप साहसी और जिज्ञासु हैं। आपका मूलांक सूर्य ग्रह के द्वारा संचालित होता है। आप अत्यंत महत्वाकांक्षी हैं। आपकी मानसिक शक्ति प्रबल है। आपको समझ पाना बेहद मुश्किल है। आप आशावादी होने के कारण हर स्थिति का ...
4
4
5
किसी बड़े काम को करने की तीव्र इच्छा जागृत होगी। आर्थिक उन्नति की योजना बनेगी। व्यापार लाभदायक रहेगा। कार्यस्थल पर परिवर्तन हो सकता है। नए उपक्रम प्रारंभ हो सकते हैं। कार्यसिद्धि होगी। प्रसन्नता में वृद्धि होगी। मान-सम्मान मिलेगा। जल्दबाजी से काम ...
5
6
शुभ मुहूर्त में ही कार्य करें ताकि आपके कार्य सफलतापूर्वक संपन्न हो सकें। ज्योतिष एवं धर्म की दृष्टि से इन मुहूर्तों का विशेष महत्व है। मुहूर्त और चौघड़िए के आधार पर 'वेबदुनिया' आपके लिए प्रतिदिन के खास मुहूर्त की सौगात लेकर आई है।
6
7
Mosque temple dispute : कहते हैं कि 7वीं सदी सदी के बाद तुर्क और अरब के लुटेरों ने भारत पर कई आक्रमण किए थे। इस दौरान उन्होंने मंदिरों को लूटा और तोड़ा साथ ही कई लोगों का धर्मान्तरण भी किया गया। मान्यता है कि यहां उन्होंने कई महत्वपूर्ण स्थानों पर ...
7
8
उज्जैन। महाकाल की नगरी उज्जैन में दानीगेट में शिप्रा तट पर एक मस्जिद है जिसे बिना नींव की मस्जिद कहा जाता है। इसके बारे में किंवदंती है कि इसे सैकड़ों साल पहले जिन्नातों ने अपने लिए बनाया था। लेकिन महामंडलेश्वर अतुलेशानंद का दावा है कि यह परमारकाल ...
8
8
9
Mangal grah ka Meen rashi me parivartan 2022 : मंगल ग्रह का राशि परिवर्तन महत्वपूर्ण माना जाता है। शनि की कुंभ राशि से निकलकर मंगल अब 17 मई 2022 से बृहस्पति की मीन राशि में गोचर कर रहे हैं। मंगल का मीन में गोर वैसे तो सभी के लिए शुभ होता है लेकिन ...
9
10
Nandi's curse on Ravana : नंदी देव को भगवान शिव का गण माना जाता है। वे सदा शिवजी की सेवा में रहते हैं। पौराणिक मान्यता के अनुसार शिवजी की घोर तपस्या के बाद शिलाद ऋषि ने नंदी को पुत्र रूप में पाया था। शिलाद ऋषि ने अपने पुत्र नंदी को संपूर्ण वेदों का ...
10
11
वट सावित्री व्रत करने से पति दीर्घायु और परिवार में सुख शांति आती है। पुराणों के अनुसार वट वृक्ष में ब्रह्मा, विष्णु व महेश तीनों का वास है। इस व्रत में बरगद वृक्ष चारों ओर घूमकर सौभाग्यवती स्त्रियां रक्षा सूत्र बांधकर पति की लंबी आयु की कामना करती ...
11
12
वट सावित्री व्रत 2022 : अमावस्या और पूर्णिमा के दिन मनाया जाने वाला यह व्रत सौभाग्य और संतान प्राप्ति में सहायता देने वाला माना गया है। आइए जानते हैं सुख-समृद्धि और अखंड सौभाग्य देने वाले वट वृक्ष की विशेषताएं -
12
13
उत्तरप्रदेश के वाराणसी में ज्ञानवापी मस्जिद के वजूखाने में विशाल शिवलिंग के मिलने का दावा किया जा रहा है। सूत्रों के अनुसार पुरातत्व विभाग सबसे पहले शिवलिंग और मस्जिद के बाहर ज्ञानवापी मंडप के पास प्रतिष्ठित विशाल नंदी की दूरी नापने की तैयारी कर रहा ...
13
14
बुधवार और चतुर्थी तिथि गणेशजी के दिन है। इस दिन इनकी विशेष पूजा करना चाहिए। पूजा करने के दौरान गणेशजी को विशेष वस्तुएं अर्पित की जाती है जो कि उनके पसंद की होती है। इन वस्तुओं को अर्पित करने से गणपतिजी प्रसन्न हो जाते हैं। इन्हीं वस्तुओं से एक है ...
14
15
Nautapa 2022: प्रतिवर्ष ग्रीष्म ऋतु में नौतपा प्रारंभ होता है। इस बार नौतपा 25 मई 2022 बुधवार से प्रारंभ होगा। नौतपा की 10 खास बातें याद रखेंगे तो इससे बचकर रहेंगे।
15
16
25 एकादशी व्रतों में सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण एकादशी होती है- "निर्जला-एकादशी", जिसे "भीमसेनी" एकादशी भी कहा जाता है। निर्जला एकादशी का व्रत ज्येष्ठ माह के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को होता है। इस वर्ष यह "निर्जला एकादशी" का व्रत 10 जून 2022 को है।
16
17
नौतपा कब से लगेगा 2022 : प्रतिवर्ष ग्रीष्म ऋतु में नौतपा प्रारंभ होता है। इस बार नौतपा 25 मई 2022 बुधवार से प्रारंभ होगा। आओ जानते हैं कि क्या होता है नवतपा, नवतपा कैसा होगा इस बार, क्या कहते हैं पंचांग और ज्योतिष के विशेषज्ञ।
17
18
प्रत्येक माह में दो चतुर्थी होती है। यह खला तिथि हैं। तिथि 'रिक्ता संज्ञक' कहलाती है। अतः इसमें शुभ कार्य वर्जित रहते हैं। यदि चतुर्थी गुरुवार को हो तो मृत्युदा होती है और शनिवार की चतुर्थी सिद्धिदा होती है और चतुर्थी के 'रिक्ता' होने का दोष उस ...
18
19
इस वर्ष गुरुवार, 19 मई 2022 को संकष्टी चतुर्थी मनाई जा रही है। हिन्दू पंचांग के अनुसार ज्येष्ठ माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि को एकदंत संकष्टी चतुर्थी कहते हैं। इस दिन चंद्रमा की पूजा के बिना अधूरी मानी जाती है। इस दिन विघ्नहर्ता भगवान श्री गणेश ...
19