होली की कथा

बच्चों को डराती थी राक्षसी

हँसें और प्रचलित भाषा में भद्दे एवं अश्लील गाने गाएँ, इसी शोरगुल एवं अट्टहास से तथा होम से वह राक्षसी मरेगी। जब राजा ने यह सब किया तो राक्षसी मर गई और उस दिन को अडाडा या होलिका कहा गया।



और भी पढ़ें :