0

आयुर्वेद और तकनीक के मेल से तलाशे जाएंगे प्रभावी चिकित्सा विकल्प

शनिवार,फ़रवरी 27, 2021
AYURVED, MEDICAL
0
1
देश की तकरीबन 47.7 प्रतिशत महिलायें पर्याप्त कसरत नहीं करती हैं। गौर करने वाली बात है कि हमारे यहां बच्चों और युवाओं में भी जंक फ़ूड के सेवन और निष्क्रिय जीवनशैली के कारण मोटापे के आंकड़े बढ़ रहे हैं।
1
2
वैज्ञानिक मान्यताओं के अनुसार हमारे कर्णपाली (ईयरलोब) पर बहुत से एक्यूपंक्चर व एक्यूप्रेशर पॉइंट्स होते हैं, जिन पर सही दबाव दिया जाए, तो माहवारी के दिनों में होनेवाले दर्द से राहत मिलती है।
2
3
क्यूट अग्रेशन के बारे में कहा जाता है कि यह हमें अपने पूर्वजों से मिलता है। येल यूनिवर्सिटी में हुई एक रिसर्च के मुताबिक, काटना या दबोचने की इच्छा जो हम महसूस करते हैं, वह वास्तव में एक न्यूरोकेमिकल प्रतिक्रिया है। शोधकर्ताओं के अनुसार, यह सिर्फ ...
3
4
बोन मैरो कैंसर को ब्लड कैंसर (Blood Cancer) भी कहते हैं। दरअसल बोन मैरो कैंसर रेयर कैंसर की श्रेणी में आता है। यह तब होता है, जब मैरो में कोशिकाएं असामान्य रूप से बढ़ने लगती हैं। कई बार लोग यह समझने में गलती कर देते हैं कि यह हड्डियों का कैंसर है। ...
4
4
5
आपके शरीर द्वारा किए जाने वाले सभी कार्यों में उसकी भूमिका होती है। इसलिए आपके शरीर को मैग्नीशियम की जरूरतों पर करीब से ध्यान दिया जाना चाहिए। अगर आप उसकी जरूरतों को पूरा नहीं करते हैं, तो शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य के गंभीर नुकसान की वजह हो सकती ...
5
6
लॉकडाउन के दिनों में तो यह समस्‍या घर घर में देखने को मिल रही है। कई बार स्‍टैमिना बढ़ाने के लिए हम जिम जाना शुरू करते हैं या जॉगिंग का प्‍लान बनाते हैं, लेकिन एक या दो दिनों के बाद ही आलस की वजह से हम वापिस उसी लाइफ स्‍टाइल को जीना शुरू कर देते
6
7
प्लाज्मा खून का तरल हिस्सा है, जो ब्लड सेल्स के साथ मिलकर लाल और सफेद और प्लेटलेट्स दोनों को बनाता है। जब इन दो हिस्सों को अलग किया जाता है, तो प्लाज्मा एक पारदर्शी तरल की तरह दिखता है।
7
8
अगर बच्चे लंबे समय तक मोबाइल पर गेम खेलते रहते हैं, तो उसकी वजह से नशे के आदी लोगों की तरह दिमाग के काम और संरचना पर बदलाव होता है।
8
8
9
हृदय रोग की सबसे आम टाइप में से एक है हाई ब्लडप्रेशर या हाइपरटेंशन। सामान्य स्थितियों में खून ब्लड वेसेल्स की दीवारों पर एक विशिष्ट दबाव डालता है, जिसे ब्लडप्रेशर कहा जाता है। कई स्थितियों में यह प्रेशर इतना ज्यादा हो सकता है कि शरीर के अंगों को ...
9
10
बर्ड फ्लू ज्यादातर घरेलू मुर्गी, सूअरों, गधे, टर्की, गीस और प्रवासी जलीय पक्षी जैसे जंगली बतख से फैलता है। इंसानों को यह बीमारी तभी होती है जब वो संक्रमित पक्षी के संपर्क में आए हो। उसके बाद यह संक्रमित मरीज से स्वस्थ व्यक्ति में फैलने लगता है।
10
11
अस्पताल में 48 साल के गांगुली की एंजियोप्लास्टी की गई, जिसके बाद उनकी हालत में सुधार बताया जा रहा है। ऐसे में जानना जरूरी है कि एंजियोप्लास्टी क्या होती है।
11
12
भारतीय शोधकर्ताओं के एक ताजा अध्ययन में पता चला है कि टूथपेस्ट, साबुन और डिओडोरेंट जैसे दैनिक उपयोग से जुड़े उत्पादों में प्रयुक्त बैक्टीरिया और सूक्ष्मजीव प्रतिरोधी एजेंट ट्राइक्लोसन मनुष्य के तंत्रिका-तंत्र को प्रभावित कर सकता है।
12
13
नई दिल्ली। वैज्ञानिकों ने मस्तिष्क की तस्वीरें लेने वाली तकनीकों का उपयोग कर करीब 100 साल पुरानी यह गुत्थी सुलझाने का दावा किया है कि मलेरिया किस तरह से मस्तिष्क को प्रभावित करता है। ओडिशा के राउरकेला में किए गए इस अध्ययन में 'द सेंटर फॉर द स्टडी ...
13
14
केले के अलावा यह रोग अरहर, गन्ना, चना समेत कई अन्य फसलों में भी होता है। उकठा रोग के लिए जिम्मेदार यह फफूंद मिट्टी में सड़ी हुई वनस्पति पर आश्रित रहती है और केले के पौधों की जड़ों के संपर्क में आने पर परजीवी में रूपांतरित हो जाती है।
14
15
डॉक्‍टरों का मानना है कि हमारी लाइफ स्‍टाइल बेहद बुरी हो गई है आधी से ज्‍यादा बीमारियां तो हम इसी वजह से पैदा कर रहे हैं। विशेषज्ञों के मुताबि‍क बहुत मोटे तौर पर 5 कारण ऐसे हैं जो आपको कम उम्र में भी हार्ट अटैक जैसी गंभीर बीमारी दे सकते हैं।
15
16
पेपर कप में तरल पदार्थों को रोकने के लिए आमतौर पर जल-रोधी परत चढ़ायी जाती है। यह परत प्रायः प्लास्टिक या फिर सह-पॉलिमर्स से बनी होती है। जब कप में गर्म पेय पदार्थ डाले जाते हैं तो कप को बनाने में उपयोग की गई परत से सूक्ष्म प्लास्टिक कणों का क्षरण ...
16
17
लखनऊ स्थित राष्ट्रीय वनस्पति अनुसंधान संस्थान (एनबीआरआई) के शोधकर्ताओं ने पथरी के उपचार के लिए एनबीआरआई-यूआरओ-05 नामक एक हर्बल दवा विकसित की है।
17
18
इसके भी दो प्रकार हैं। एक मेलानोमा, जो त्वचा में मेलानोसाइट्स नामक पिगमेंट-उत्पादक कोशिकाओं से विकसित होता है। वहीं, दूसरा नॉन-मेलानोमा त्वचा कैंसर होता है, जो त्वचा की अन्य कोशिकाओं से फैलता है।
18
19
इस डे के पीछे डायरिया, आंख और त्वचा से संबंधी बीमारियों से बचाव करना है। इस समय जबकि कोरोना वायरस का संक्रमण काल चल रहा है, ऐसे में यह दिवस और ज्‍यादा अहम हो जाता है।
19