Omicron Variant से जुड़े हर सवाल का WHO ने दिया जवाब, जानिए कितना घातक है


कोरोना के नए वेरिएंट ओमीक्रोन से समूचे विश्व में खलबली मची हुई है। WHO ने इसे वेरिएंट ऑफ कंसर्न घोषित किया है। जिस पर शोध

जारी है। दक्षिण अफ्रीका में मिले कोरोना के नए वैरिएंट ओमीक्रोन को लेकर खतरा बढ़ता जा रहा है। ओमीक्रोन वेरिएंट, डेल्टा से अधिक खतरनाक बताया जा रहा है। वैज्ञानिक इसे अबतक का सबसे खराब और डरावना वेरिएंट बता रहे हैं। ओमीक्रोन वेरिएंट के बारे में कुछ जरूरी बातें -


-WHO ने ओमीक्रोन वैरिएंट को B.1.1529 के वेरिएंट ऑफ कंसर्न नाम दिया है। वेरिएंट ऑफ कंसर्न नाम तब दिया जाता है जब कोईसा वायरस तेजी से फैल रहा होता है या बहुत संक्रामक होता है। यह वैरिएंट का नाम WHO's की टेक्निकल एडवाइजरी ग्रुप ऑन वायरस
इवोल्यूशन द्वारा दिया गया।


- कितनी तेजी से फैल रहा है ओमीक्रोन वायरस?

ओमीक्रोन वायरस कितनी तेजी से फैल रहा है यह अभी पूर्ण रूप से स्पष्ट नहीं हुआ है। डेल्टा वेरिएंट से भी अधिक खतरनाक है या नहीं। यह
पूर्ण रूप से स्पष्ट नहीं है। हालांकि साउथ अफ्रीका में कई लोग वायरस की चपेट में आए है। लेकिन पुष्टि नहीं हुई है।



- वायरस की गंभीरता ?

तेजी से फैल रहा वायरस कितना गंभीर और खतरनाक है यह अभी स्पष्ट नहीं है। साथ ही कोविड के दूसरे वेरिएंट और डेल्टा से भी खतरनाक है या नहीं इस पर शोध जारी है। यह वायरस कितना गंभीर है यह स्पष्ट करने में कुछ सप्ताह का समय भी लग सकता है। के सभीप्रकार और प्रमुख रूप से कमजोर लोगों के लिए गंभीर बीमारी या मौत का कारण बन सकता है। जिसके लिए सावधानियां बरतना जरूरी है।




कोविड से संक्रमित लोगों के लिए कितना खतरनाक ओमीक्रोन है?

अभी तक की गई जांच में यह सामने आया है कि जो लोग कोविड-19 से संक्रमित हो चुके हैं उनके लिए ओमीक्रोन अधिक खतरनाक है। वे कोरोना से संक्रमित लोगों को जल्दी अपनी चपेट में ले सकताहै।

टीकाकरण कितना प्रभावशील है?

फिलहाल विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन टीके पर अपनी टीम के साथ काम कर रही है। WHO के मुताबिक गंभीर बीमारी के प्रभाव से बचाने में टीकाकरण महत्‍वपूर्ण रहा है। वर्तमान में डेल्टा इसमें प्रमुख रूप से शामिल है। वर्तमान में जो टीके लगाए जा रहे हैं वे कोविड के खिलाफ प्रभावी
है।


WHO ने दूसरे देशों से मांगा डाटा..

दरअसल, दुनिया में तेजी से फैल रहा ओमीक्रोन कितना खतरनाक वेरिएंट है, किसे अधिक प्रभावित कर रहा है, इसके लिए विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठनने दूसरे देशों से मरीजों का डाटा मांगा है। ताकि वह यह जान सकें कि किस तरह ओमीक्रोन मरीज को प्रभावित कर रहा है।


WHO का जनता को सुझाव

कोविड-19 के प्रभाव को रोकने के लिए जनता को कुछ बातों का ध्यान रखना जरूरी है-

- कम से कम 1 मीटर की दूरी रखें।
- मास्‍क पूरी तरह से नाक पर फीट रहे। क्‍योंकि वायरस का प्रवेश द्वार नाक और मुंह ही है।
- खुले रूम में बैठें।
- भीड़ वाली जगह से बचें।
- अपने हाथों को साफ रखें।
- कफ या छींक आने पर अपने टिश्‍यू का इस्तेमाल करें।
- अगर वैक्सीन नहीं लगा है तो वैक्सीन जरूर लगवाएं।



और भी पढ़ें :