दिल्ली बॉर्डर पर प्रदर्शन कर रहे किसानों को विभिन्न सेवाएं मुहैया करा रही है एसजीपीसी

Last Updated: सोमवार, 28 दिसंबर 2020 (21:34 IST)
अमृतसर। शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (एसजीपीसी) अध्यक्ष जागीर कौर ने सोमवार को कहा कि एसजीपीसी केंद्र के 3 कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली में विभिन्न बॉर्डर पर प्रदर्शन कर रहे किसानों को और अन्य सेवाएं मुहैया करा रही है। कौर ने कहा कि हरियाणा में एसजीपीसी 'गुरुद्वारों' से दिल्ली की सीमाओं पर 'लंगर' प्रदान करने के अलावा वहां आवास सुविधा, चिकित्सा सहायता और शौचालय की भी व्यवस्था की गई है।
ALSO READ:

Farmer's Protest: सरकार और किसानों के बीच अगली बातचीत 30 दिसंबर को, 40 किसान संगठनों को बुलावा
उन्होंने कहा कि एसजीपीसी के सदस्यों द्वारा पर समय-समय पर इन सेवाओं की निगरानी की जाती है। पंजाब, हरियाणा और देश के अन्य हिस्सों के हजारों किसान कृषि कानूनों को निरस्त करने की मांग को लेकर राष्ट्रीय राजधानी के विभिन्न सीमा बिंदुओं के पास 1 महीने से विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं, हालांकि केंद्र में सत्तारूढ़ भाजपा ने दावा किया है कि ये कानून किसानों के हित में हैं।
दिल्ली पहुंचे एसजीपीसी के सदस्य गुरिंदरपाल सिंह रणीके ने प्रदर्शनकारी किसानों के लिए किए गए प्रबंधों की समीक्षा करते हुए कहा कि 'सेवादार' इन सेवाओं को प्रदान करने में दिन-रात लगे हुए हैं। रणीके ने कहा कि किसानों के रहने के लिए वॉटरप्रूफ टेंट, गद्दे और रजाई प्रदान की गई हैं जबकि 3 मेडिकल टीमों को भी वहां तैनात किया गया है, साथ ही शौचालय की व्यवस्था भी की गई है। 'लंगर' दिल्ली की टिकरी और सिंघू बॉर्डर के पास और अंबाला में चल रहा है। रणीके ने कहा कि एसजीपीसी के तहत विभिन्न 'गुरुद्वारों' के कर्मचारी बड़ी संख्या में दिल्ली में तैनात हैं। (भाषा)



और भी पढ़ें :