शनिवार, 13 अप्रैल 2024
  • Webdunia Deals
  1. धर्म-संसार
  2. व्रत-त्योहार
  3. एकादशी
  4. Mohini ekadashi ke din kya nahi karna chahie
Written By
Last Updated : सोमवार, 9 मई 2022 (08:52 IST)

मोहिनी एकादशी पर क्या करें, क्या नहीं

मोहिनी एकादशी पर क्या करें, क्या नहीं - Mohini ekadashi ke din kya nahi karna chahie
Mohini Ekadashi 2022 : प्रतिवर्ष वैशाख शुक्र की एकादशी को मोहिनी एकादशी का व्रत रखा जाता है। इस बार अंग्रेजी माह के अनुसार 12 मई 2022 गुरुवार को मोहिनी एकादशी का व्रत रखा जाएगा। आओ जानते हैं कि इस दिन क्या करें और क्या नहीं।
 
 
मोहिनी एकादशी पर क्या करें (What to do on Mohini Ekadashi):
 
1. पूजा : मोहिनी एकादशी पर भगवान विष्णु की आराधना करने से जहां सुख-समृद्धि बढ़ती है वहीं शाश्वत शांति भी प्राप्त होती है। खासकर उनके मोहिनी रूप की पूजा करना चाहिए। साथ ही भगवान विष्णु को चंदन और जौ चढ़ाने चाहिए क्योंकि यह व्रत परम सात्विकता और आचरण की शुद्धि का व्रत होता है। 
 
2. व्रत : इस दिन व्रत-उपवास रखकर मोह-माया के बंधन से मु‍क्त होने के लिए यह एकादशी बहुत लाभदायी है। अत: हमें अपने जीवन काल में धर्मानुकूल आचरण करते हुए मोक्ष प्राप्ति का मार्ग ढूंढना चाहिए।
 
3. कथा : मोहिनी एकादशी के अवसर पर श्रद्धालुओं को सुबह से ही पूजा-पाठ, प्रातःकालीन आरती, सत्संग, एकादशी महात्म्य की कथा, प्रवचन सुनना चाहिए। साथ ही मोहिनी एकादशी की कथा सुनना चाहिए।
 
4. मंत्र : एकादशी के दिन इनमें से किसी भरी मंत्र का 108 बार जाप अवश्‍य करना चाहिए। 
- ॐ विष्णवे नम:
- ॐ नमो भगवते वासुदेवाय। 
- श्रीकृष्ण गोविन्द हरे मुरारे। हे नाथ नारायण वासुदेवाय।।
- ॐ नारायणाय विद्महे। वासुदेवाय धीमहि। तन्नो विष्णु प्रचोदयात्।।
- ॐ नमो नारायण। श्री मन नारायण नारायण हरि हरि।
Ekadashi Vishnu Worship
मोहिनी एकादशी के दिन क्या नहीं करना चाहिए (mohini ekadashi ke din kya nahi karna chahie) :
 
1. इस दिन चावल, लहसुन, प्याज, कोदों का शाक, गाजर, शलजम, पालक, गोभी, केला, आम, अंगूल बादाम, पिस्ता, नमक, तेल, मांस, मसूर की दाल, शहद का का सेवन नहीं करना चाहिए।
 
2. तुलसी के पौधे में जल अर्पित नहीं करना चाहिए।
 
3. जुआ सट्टा नहीं खेलना चाहिए।
 
4. किसी भी प्रकार का नशा नहीं करना चाहिए।
 
5. इस दिन क्रोध, मिथ्या भाषण का त्याग करना चाहिए।
 
6. स्त्रीसंग प्रसंग नहीं करना चाहिए।
 
7. कांसे के पात्र में भोजन नहीं करना चाहिए।
 
8. किसी की निंदा करना, बहस करना या बुरी संगत में रहने का भी त्याग कर देना चाहिए।
 
9. यह भी कहा जाता है कि इस दिन दातुन भी नहीं करना चाहिए।
 
10. झाड़ू या पोंछा नहीं लगाना चाहिए क्योंकि इससे सूक्ष्म जीवों का नाश होता है।