दिवाली के पांच दिनी उत्सव में धनतेरस, नरक चतुर्दशी, दीपावली, गोवर्धन पूजा और भाई दूज पूजा के शुभ मुहूर्त जानिए

Diwali 2021 Muhurat Time
Diwali 2021 Muhurat Time : दीपावली के महोत्सव पांच दिनों का रहता है। जिसमें पहले दिन धनतेरस, दूसरे दिन नरक चतुर्दशी यानि रूप चौदस, तीसरे दिन कार्तिक अमावस्या पर दिवाली, चौथे दिन गोवर्धन पूजा जिसे अन्नकूट महोत्सव भी कहते हैं और पांचवें दिन भाई दूज का पर्व मनाया जाता है। आओ जानते हैं सभी दिन के शुभ मुहूर्त।
2 नवंबर धनतेरस 2021 के शुभ मुहूर्त ( Dhanteras 2021 Shubha Muhurat )

त्रयोदशी तिथि समय : द्वादशी सुबह: 11:31 तक उसके बाद त्रयोदशी तिथि प्रारंभ।

योग : त्रिपुष्कर योग

दिन के मुहूर्त :
त्रिपुष्कर योग- प्रात: 06:06 से 11:31 तक। इस योग में भी खरीदारी की जा सकती है।
धनतेरस मुहूर्त- 06 बजकर 18 मिनट और 22 से 08 बजकर 11 मिनट और 20 सेकंड तक का मुहूर्त है। इस काल में पूजा की जा सकती है।
अभिजीत मुहूर्त– सुबह 11:42 से दोपहर 12:26 तक। इस मुहूर्त में खरीदारी की जा सकती है। यह सबसे शुभ मुहूर्त है।
विजय मुहूर्त- दोपहर 01:33 से 02:18 तक।

शाम और रात के मुहूर्त :
गोधूलि मुहूर्त- शाम 05:05 से 05:29 तक।
प्रदोष काल- 5 बजकर 35 मिनट और 38 सेकंड से 08 बजकर 11 मिनट और 20 सेकंड तक रहेगा। इस काल में पूजा की जा सकती है।
धनतेरस मुहूर्त- शाम 06:18:22 से 08:11:20 तक। इस काल में पूजा और खरीदी दोनों ही जा सकती है।
वृषभ काल– शाम 06:18 से 08:14: तक।
निशिता मुहूर्त- रा‍त्र‍ि 11:16 से 12:07 तक।

दिन का चौघड़िया :
लाभ- प्रात: 10:43 से 12:04 तक।
अमृत- दोपहर 12:04 से
01:26 तक।
शुभ- दोपहर 02:47 से 04:09 तक।

रात का चौघड़िया :
लाभ- 07:09 से 08:48 तक।
शुभ- 10:26 से 12:05 तक।
अमृत- 12:05 से 01:43 तक।

3 नवंबर 2021 को नरक चतुर्दशी के शुभ मुहूर्त ( Narak Chaturdashi Roop Chaudas 2021 Shubha Muhurat )

3 नवंबर के दिन त्रयोदशी तिथि प्रात: 09 बजकर 02 मिनट तक रहेगी इसके बाद चतुर्दशी तिथि प्रारंभ होकर 4 नवंबर 2021 प्रात: 06 बजकर 03 मिनट तक रहेगी। इसीलिए अभ्यंग स्नान समय 4 नवंबर प्रात: 06:06:05 से 06:34:53 तक रहेगा।

योग : सर्वार्थ सिद्धि योग

3 नवंबर के शुभ मुहूर्त :
ब्रह्म मुहूर्त– 05:02 से 05:50 तक।
विजय मुहूर्त - दोपहर 01:33 से 02:17 तक।
गोधूलि मुहूर्त- शाम 05:05 से 05:29 तक।
सायाह्न संध्या मुहूर्त- शाम 05:16 से 06:33 तक।
निशिता मुहूर्त : रात्रि 11:16 से 12:07 तक।

दिन का चौघड़िया :
लाभ : प्रात: 06:38 से 08:00 तक।
अमृत : प्रात: 08:00 से 09:21 तक।
शुभ : प्रात: 10:43 से 12:04 तक।
लाभ : शाम 04:08 से 05:30 तक।

रात का चौघड़िया :
शुभ : शाम 07:09 से 08:47 तक।
अमृत : 08:47 से 10:26 तक।
लाभ : 03:22 से 05:00 तक।
Shubh Muhurta
4 नवंबर 2021 को दीपावली के शुभ मुहूर्त ( Diwali Deepawali 2021 Shubha Muhurat )

योग : प्रीति योग प्रात: 11:10 तक उसके बाद आयुष्मान योग पूरे दिन-रात रहेगा।

शुभ मुहूर्त :
अभिजीत मुहूर्त : प्रात: 11:42:32 से दोपहर 12:26:30 तक।
विजय मुहूर्त : दोपहर 01:33 से 02:17 तक।
गोधूलि मुहूर्त : शाम 05:04 से 05:28 तक।
सायाह्न संध्या मुहूर्त : शाम 05:15 से 06:32 तक।
अमृत काल मुहूर्त : रात्रि 09:16 से 10:42 तक।
प्रदोष काल मुहूर्त : शाम 6:10:29 से रात 08:06:20 तक।
महानिशीथ काल मुहूर्त : रात्रि 11:38:51 से 12:30:56 तक।

दिन का चौघड़िया
शुभ- प्रात: 06:39 से 08:00 तक।
लाभ- दोपहर 12:04 से 01:25 तक।
अमृत- दोपहर 01:25 से 02:47 तक।
शुभ- शाम 04:08 से 05:29 तक।


रात का चौघड़िया
अमृत- शाम 05:29 से 07:08 तक
लाभ- रात्रि 12:04 से 01:43 तक।
शुभ- रात्रि 03:22 से 05:01 तक।


5 नवंबर 2021 को गोवर्धन पूजा के शुभ मुहूर्त ( Govardhan Puja 2021 Shubha Muhurat )

तिथि : शुक्ल पक्ष प्रतिपदा तिथि 05 नबंबर को प्रात: 02:44 से रात्रि 11:14 तक रहेगी।
योग : इस दिन आयुष्यमान योग, शोभन योग और सौभाग्य योग रहेगा।

5 नवंबर 2201 के दिन पूजा के मुहूर्त :
पूजा का मुहूर्त : प्रात: 06:35:38 से 08:47:12 तक और सायंकाल 03:21:53 से 05:33:27 तक।
अभिजित मुहूर्त : सुबह 11:42 से दोपहर 12:26 तक।
विजय मुहूर्त : दोपहर 01:32 से 02:17 तक।
अमृत काल : शाम 06:35 से रात्रि 08:00 तक।
गोधूलि मुहूर्त : शाम 05:03 से 05:27 तक।
सायाह्न संध्या : 05:15 से 06:32 तक।
निशिता मुहूर्त : रात्रि 11:16 से 12:08 तक।

दिन का चौघड़िया
लाभ : प्रात: 08:01 से 09:22 तक।
अमृत : प्रात: 09:22 से 10:43 तक।
शुभ : दोपहर 12:04 से 01:25 तक।

रात का चौघड़िया
लाभ : रात्रि 20:47 से 22:26 तक।
शुभ : रात्रि 00:05 से 01:44 तक।
अमृत : रात्रि 01:44 से 03:23 तक।
Bhai Dooj Tilak Muhurat 2021
6 नवंबर 2021 को भाई दूज पूजा के शुभ मुहूर्त ( Bhai Dooj 2021 Shubha Muhurat )

योग : शोभन
भाई दूज तिलक का शुभ समय : दोपहर 01:10:12 से 03:21:29 तक।

भाई दूज के शुभ मुहूर्त :
अभिजीत मुहूर्त- सुबह 11:19 से दोपहर 12:04 तक।
विजय मुहूर्त- दोपहर 01:32 से 02:17 तक।
अमृत काल मुहूर्त- दोपहर 02:26 से 03:51 तक।
गोधूलि मुहूर्त- शाम 05:03 से 05:27 तक।
सायाह्न संध्या मुहूर्त- शाम 05:14 से 06:32 तक।
निशिता मुहूर्त- रात्रि 11:16 से 12:08 तक।

दिन का चौघड़िया
शुभ : प्रात: 08:02 से 09:22 तक।
लाभ : दोपहर 13:25 से 14:46 तक।
अमृत : दोपहर 14:46 से 16:07 तक।

रात का चौघड़िया
लाभ : शाम 05:28 से 19:07 तक।
शुभ : रात्रि 20:46 PM 22:25 तक।
अमृत : रात्रि 22:25 से 00:05 तक।

नोट: स्थानीय पंचांग के अनुसार मुहूर्त समय में थोड़ी-बहुत घट-बढ़ हो सकती है।



और भी पढ़ें :