वर्ल्ड कप सेमीफाइनल में टीम इंडिया की 'अग्निपरीक्षा', ये 3 कमजोरियां पड़ सकती हैं भारी

Last Updated: सोमवार, 8 जुलाई 2019 (19:02 IST)
वर्ल्ड कप 2019 के 45 लीग मुकाबलों के बाद 4 टीमें सामने आ गईं जिनके बीच सेमीफाइनल के मुकाबले होंगे। टीम इंडिया ने भी बेहतरीन प्रदर्शन के साथ सेमीफाइनल में जगह बनाई। विराट की टीम अपने कमाल के प्रदर्शन के साथ 9 मैचों में 15 अंक हासिल कर अंक तालिका में टॉप पर आ गई और इतने ही मैचों में 11 अंक के साथ की टीम चौथे नंबर पर रही। अब दोनों के बीच सेमीफाइनल में टक्कर होना है।

मैनचेस्टर में होने वाले पहले सेमीफाइनल में 9 जुलाई को विराट की सेना का मुकाबला केन विलियमसन की कप्तानी वाली कीवी टीम से होगा। भारतीय प्रशंसक चाहते थे कि सेमीफाइनल में टीम इंडिया की भिड़ंत न्यूजीलैंड से हो, लेकिन सेमीफाइनल में विराट की सेना के लिए न्यूजीलैंड की चुनौती भी किसी 'अग्नि परीक्षा' से कम नहीं होगी। जानते हैं टीम इंडिया की 3 कमजोरियां जो उसे न्यूजीलैंड के खिलाफ भारी पड़ सकती हैं।
मध्यमक्रम की बल्लेबाजी : टीम इंडिया के टॉप ऑर्डर के बल्लेबाजों ने वर्ल्ड कप में शानदार प्रदर्शन किया है। रोहित, राहुल और विराट के बल्ले ने विश्व कप में खूब रन उगले हैं, लेकिन चौथे से सातवें नंबर के बल्लेबाजों का अब तक का प्रदर्शन टीम इंडिया के लिए परेशानी बन सकता है। अगर न्यूजीलैंड को सेमीफाइनल में शिकस्त देनी है, तो मिडिल ऑर्डर के बल्लेबाजों को भी शानदार प्रदर्शन करना होगा। धीमी बल्लेबाजी के लिए सबसे ज्‍यादा आलोचना का शिकार हो रहे टीम इंडिया के पूर्व कप्तान एमएस धोनी को इस मामले में मिडिल ऑर्डर को लीड करना होगा।
कमजोर फिल्डिंग और रणनीति : वर्ल्ड कप में कैचिंग के मामले में भारतीय प्‍लेयर्स अब तक शानदार रहे हैं लेकिन ग्राउंड फील्डिंग और रणनीति के अनुसार बॉलिंग के मामले में अभी सुधार की काफी गुंजाइश है। पिछले मैचों में देखें तो कुछ मिसफील्‍ड होने और रनआउट के अवसर छोड़े गए। न्यूजीलैंड के खिलाफ मैदान पर टीम इंडिया के जांबाजों को फुर्ती दिखानी होगी।
अंतिम ओवरों में धीमी बल्लेबाजी : वर्ल्ड कप के पिछले मैचों में देखें तो भारतीय टीम अंतिम ओवरों में ज्यादा रन नहीं बटोर सकी है। उसके बल्लेबाज आखिरी ओवरों में बड़े शॉट्‍स लगाने से बचते रहे हैं। ऐसे में जरूरी होगा कि टीम इंडिया न्यूजीलैंड के खिलाफ अगर टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी चुनती है तो बड़ा लक्ष्य बोर्ड पर लगाना होगा। इसके लिए जरूरी है अंतिम ओवरों में ताबड़तोड़ बल्लेबाजी करना।



और भी पढ़ें :