सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र से कहा- प्रवासी कामगारों के पंजीकरण में लाए तेजी

Supreme court
Last Updated: सोमवार, 24 मई 2021 (14:58 IST)
नई दिल्ली। उच्चतम न्यायालय ने सोमवार को कहा कि प्रवासी कामगारों के की प्रक्रिया बेहद धीमी है और इसमें तेजी लाई जानी चाहिए ताकि उन्हें कोविड-19 महामारी के बीच योजनाओं का लाभ दिया जा सके। शीर्ष अदालत ने प्रवासी कामगारों के पंजीकरण की जरूरत पर जोर देते हुए कहा कि योजनाओं का लाभ उन्हें तभी मिल सकता है जब अधिकारी उनकी पहचान करके उनका पंजीकरण करें।
ALSO READ:

भारत बायोटेक जून से करेगी बच्चों के लिए कोरोना वैक्सीन का ट्रायल! WHO जल्‍द देगा मंजूरी

न्यायमूर्ति अशोक भूषण और न्यायमूर्ति एमआर शाह की पीठ ने कहा कि सरकार को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि योजनाओं का लाभ प्रवासी कामगारों सहित सभी पात्र लोगों को मिले और पूरी प्रक्रिया की निगरानी की जानी चाहिए। न्यायालय ने कहा कि वह असंगठित क्षेत्रों में कामगारों के पंजीकरण के मुद्दे पर केंद्र और राज्य सरकारों के प्रयासों से संतुष्ट नहीं है।

गौरतलब है कि पीठ 3 मानव अधिकार कार्यकर्ताओं की ओर से दाखिल आवेदन पर सुनवाई कर रही थी जिसमें प्रवासी कामगारों को खाद्य सुरक्षा, नकदी हस्तांतरण, परिवहन सुविधा तथा अन्य कल्याणकारी योजनाओं का लाभ मिलना सुनिश्चित करने के केंद्र और राज्य सरकारों को देने का अनुरोध किया गया है। (भाषा)



और भी पढ़ें :