बोकारो से 30 हजार लीटर ऑक्सीजन लेकर लखनऊ पहुंची 'ऑक्सीजन एक्सप्रेस'

पुनः संशोधित शनिवार, 24 अप्रैल 2021 (23:48 IST)
लखनऊ। रेलवे की 'एक्सप्रेस' शनिवार सुबह करीब 6.30 बजे के चारबाग रेलवे स्टेशन पर पहुंची। 'ऑक्सीजन एक्‍सप्रेस' के लखनऊ पहुंचने पर खुशी जताते हुए उत्तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी व केंद्रीय रेलमंत्री का आभार जताया है। आधिकारिक जानकारी के अनुसार शुक्रवार दोपहर बोकारो से रवाना हुई 'ऑक्सीजन एक्सप्रेस' 30000 लीटर तरल चिकित्सीय ऑक्सीजन लेकर लखनऊ आई है।
के लखनऊ पहुंचने पर मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने शनिवार को ट्वीट किया, भारतीय रेल को देश की 'लाइफ लाइन' कहा गया है। प्रधानमंत्री की प्रेरणा से आज वाराणसी तथा लखनऊ पहुंची 'ऑक्सीजन एक्सप्रेस' इसका जीवंत उदाहरण है। योगी ने अपने ट्वीट में प्रदेशवासियों के जीवन रक्षण हेतु इस कार्य के लिए प्रधानमंत्री तथा रेलमंत्री पीयूष गोयल के प्रति‍ आभार जताया है।

अपर मुख्‍य सचिव (गृह) अवनीश अवस्थी ने शनिवार को बताया कि ऑक्सीजन एक्सप्रेस मेडिकल ऑक्सीजन के दो टैंकर लेकर सुबह साढ़े छह बजे लखनऊ पहुंची। प्रत्‍येक टैंकर 15000 लीटर क्षमता का है। जानकारी के अनुसार, बोकारो से ऑक्सीजन एक्सप्रेस तीन टैंकर ऑक्सीजन लेकर रवाना हुई थी, जिसमें से एक टैंकर शुक्रवार/ शनिवार की दरमियानी रात वाराणसी में उतारा गया।

अवस्थी ने बताया कि इस ऑक्सीजन से लखनऊ की आधी मांग आज पूरी हो जाएगी और मरीजों को राहत मिलेगी। शनिवार को रेलवे की दूसरी ऑक्सीजन एक्सप्रेस सुबह 5.30 बजे लखनऊ से बोकारो के लिए चार खाली टैंकरों के साथ रवाना हुई। बुधवार को रेलवे ने कहा था कि राज्य सरकार से अनुरोध मिलने के बाद वह उत्तर प्रदेश में अपनी दूसरी ऑक्सीजन एक्सप्रेस चलाएगा।

उत्तर प्रदेश में ऑक्सीजन की कमी को देखते हुए राज्य सरकार कई मोर्चे पर कार्य रही है। मुख्‍यमंत्री ने शुक्रवार को 'ऑक्सीजन मॉनिटरिंग सिस्‍टम फॉर यूपी' नामक डिजिटल प्लेटफार्म का उद्घाटन किया था। आधिकारिक जानकारी के अनुसार, प्रदेश के सभी सरकारी एवं निजी अस्पतालों में के वर्तमान संकट काल में उत्पन्न हुई ऑक्सीजन की समस्या से निपटने के लिए यह प्लेटफार्म तैयार किया गया है।

एक सरकारी बयान में अवस्‍थी ने बताया कि ऑक्सीजन के लिए डिजिटल प्लेटफार्म की व्यवस्था शुरू करने वाला उत्तर प्रदेश देश का पहला राज्य है। अवस्थी ने बताया कि यह प्लेटफार्म प्रदेश के खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन, चिकित्सा शिक्षा विभाग, चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग, परिवहन एवं गृह विभाग के सहयोग से रोडिक कंसलटेंट प्राइवेट लिमिटेड द्वारा तैयार किया गया है।
ALSO READ:

वैक्सीनेशन के लिए बहुत ही आसान है रजिस्ट्रेशन, जानिए पूरी प्रक्रिया...
इस कंपनी के प्रतिनिधि ऑक्सीजन की आवश्यकता वाले सरकारी एवं निजी अस्पतालों में मौजूद रहकर समयबद्ध रूप से ऑक्सीजन की सुगम आपूर्ति कराना सुनिश्चित करेंगे। उन्होंने बताया कि इस कार्य के लिए वेब पोर्टल/ लिंक तैयार किया गया है, जिसको ऑक्सीजन आपूर्ति कड़ी से जुड़े अधिकारियों एवं कर्मचारियों द्वारा प्रयोग किया जा सकेगा।
कंपनी के प्रतिनिधिगण अस्पताल की ऑक्सीजन आवश्यकता का विवरण पोर्टल पर अपलोड करेंगे और पोर्टल पर ऑक्सीजन सप्लाई में लगे वाहनों की ऑनलाइन उपस्थिति को ट्रैक करते हुए निकटस्थ वाहन को अस्पताल के लिए रवाना किया जाएगा। एक सरकारी बयान के अनुसार उत्तर प्रदेश सरकार ने कोरोना की चेन को तोड़ने और मरीजों को ऑक्सीजन की तत्काल सुविधा मुहैया कराने के लिए अब हवाई जहाज का प्रयोग करने का निर्णय लिया है।
सरकार का जोर प्रदेश के समस्त जिलों में हो रही ऑक्सीजन की कमी को जल्द पूरा करना है। शनिवार को टीम 11 के साथ बैठक में जारी किए गए निर्देश में मुख्यमंत्री ने कहा कि एक हवाई जहाज से दो ख़ाली टैंकर बोकारो पहुंचाए जाएंगे और वहां से भरे हुए टैंकर ट्रेन से लखनऊ आएंगे।

इस बीच ऑक्सीजन निगरानी के लिए मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ के निर्देश पर लोक भवन के पंचम तल पर स्थित कमांड सेंटर में स्थापित किए गए नियंत्रण कक्ष में तीन पुलिस उपाधीक्षक तैनात किए गए हैं, जिनकी आठ-आठ घंटे तक लगातार ड्यूटी रहेगी। ये अधिकारी ऑक्सीजन की आपूर्ति सुनिश्चित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे। यह आदेश अपर मुख्‍य सचिव गृह ने शनिवार को जारी कर दिया है।(भाषा)



और भी पढ़ें :