DRDO ने आमंत्रित किए 2-DG दवा की तकनीक देने के लिए ईओआई

Last Updated: बुधवार, 9 जून 2021 (13:11 IST)
हैदराबाद। कोविड-19 मरीजों के इलाज में इस्तेमाल की जानी वाली दवा 2-डिऑक्सी-डी-ग्लूकोज (2-डीजी) विकसित करने वाले रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) ने इस दवा को बनाने की तकनीक भारतीय दवा उद्योग को हस्तांतरित करने के वास्ते रुचि पत्र (ईओआई) की है।
ALSO READ:
भारत ने कोविड 19 का मुकाबला अच्छे से किया लेकिन दूसरी लहर में चोट खाई : विश्वबैंक अध्यक्ष

2-डीजी दवा की प्रयोगशाला, नाभिकीय औषधि एवं संबद्ध विज्ञान संस्थान (आईएनएमएएस) ने डॉ. रेड्डी लेबोरेटरीज के साथ मिलकर विकसित की है। क्लिनिकल ट्रॉयल के नतीजों में देखा गया कि यह अणु अस्पताल में भर्ती मरीजों को तेजी से बीमारी से उबरने और ऑक्सीजन पर निर्भरता को कम करने में मदद करता है। दस्तावेज के अनुसार आवेदन ई-मेल के जरिए 17 जून से पहले भेजे जाने चाहिए।
इसमें कहा गया है कि उद्योगों द्वारा दी जाने वाली ईओआई की एक तकनीकी आकलन समिति (टीएसी) जांच करेगी। केवल 15 उद्योगों को ही उनकी क्षमताओं और पहले आओ पहले पाओ के आधार पर टीओटी दिया जाएगा।
बोली लगाने वाली कंपनियों के पास ड्रग लाइसेंसिंग एथॉरिटीज से एक्टिव फार्मास्युटिकल इंग्रेडिएंट (एपीआई) से दवा बनाने का लाइसेंस होना चाहिए। (भाषा)



और भी पढ़ें :