सावधान! मध्यप्रदेश में 2 दिन में कोरोना के 50 के करीब नए केस, एक्टिव केसों की संख्या 100 के पार

भोपाल और इंदौर में कोरोना संंक्रमण की रफ्तार सबसे तेज, नरसिंहपुर में एक द

Author विकास सिंह| Last Updated: बुधवार, 27 अक्टूबर 2021 (19:30 IST)

अगर कोरोना संक्रमण के ग्राफ को देखा जाए तो उसमें अचानक से उछाल नजर आ रहा है। पिछले सप्ताह तक प्रदेश में कोरोना के नए मामलों की संख्या सिंगल डिजिट में रहती थी लेकिन अचानक से दो दिनों से यह डबल अंक में पहुंच गई है। वहीं राजधानी में मंगलवार को कोरोना संक्रमित की मौत से एक बार फिर खतरे की घंटी बजती हुई दिख रही है।


एक ओर प्रदेश में कोरोना संक्रमण की रफ्तार लगातार बढ़ती हुई दिख रही है और नए केस मिलने की संख्या तेजी से बढ़ रही है लेकिन लोग बेफ्रिक होकर बाजारों में पहुंच रहे है। सार्वजनिक स्थानों पर बहुत कम लोग ही मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए नजर आते है।

त्यौहारों के सीजन में‌ दो दिन में पचास के करीब नए मामले आने के बाद एक बार फिर कोरोना संक्रमण का खतरा बढ़ता हुआ दिख रहा है। अगर बात करें तो प्रदेश में वर्तमान में कोरोना के कुल एक्टिव केसों की संख्या 108 है। कोरोना संक्रमण की दर मात्र 0.02 फीसदी और रिकवरी रेट लगातार 98.60% बनी हुई है।

प्रदेश के इंदौर में मिले कोरोना वायरस के नए वैरिएंट A.Y.4 मिलने के बाद सरकार अलर्ट मोड पर है। सरकार के प्रवक्ता नरोत्तम मिश्रा ने कहा अब तक इस बात का कोई प्रमाण नहीं मिला है कि कोरोना का नया वैरिएंट पहले के वैरिएंट से अधिक घातक है। इसके साथ ही कोरोना का नए वैरिएंट वैक्सीन का असर कम है इसके भी कोई प्रमाण नहीं मिले है। उन्होंने प्रदेश की जनता से घबराने की नहीं कोरोना को लेकर सतर्कता बरतने की अपील की है।

उधर दिल्ली में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मनसुख मंडाविया की अध्यक्षता पर में कोरोना पर मंथन हुआ। जिसमें मध्यप्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा और स्वास्थ्य विभाग के प्रमुख सचिव मो. सुलेमान शामिल हुए। बैैठक में कोरोना वैक्सीनेशन की रफ्तार बढ़ाकर जल्द से जल्द लोगों को वैक्सीन के दोनों डोज लगाने पर जोर दिया गया।



और भी पढ़ें :