Covid-19 : बच्चों के लिए नई Guidelines, 5 साल से कम उम्र है तो मास्क अनिवार्य नहीं, एंटीवायरल या मोनोक्लोनल एंटीबॉडी के इस्तेमाल पर सुझाव

Last Updated: शुक्रवार, 21 जनवरी 2022 (00:33 IST)
हमें फॉलो करें
नई दिल्ली। सरकार ने गुरुवार को बच्चों के लिए नई कोरोना गाइडलाइन जारी की है। इसमें 5 साल तक, 6 से 11 साल और 12 से 18 साल के किशोरों के लिए अलग-अलग दिशा-निर्देश हैं। 18 साल से कम उम्र के बच्चों के संक्रमित होने पर एंटीवायरल या मोनोक्लोनल एंटीबॉडी का इस्तेमाल नहीं करने का सुझाव दिया गया है।

सरकार ने कहा कि संक्रमण की गंभीरता के बावजूद 18 वर्ष से कम उम्र के बच्चों के लिए एंटीवायरल या मोनोक्लोनल एंटीबॉडी का उपयोग करने की सिफारिश नहीं की जाती है और यदि स्टेरॉयड का उपयोग किया जाता है तो उन्हें नैदानिक ​​​​सुधार के आधार पर 10 से 14 दिनों में इसकी खुराक कम करते जाना चाहिए।
स्वास्थ्य मंत्रालय ने ‘बच्चों और किशोरों (18 वर्ष से कम) में कोविड-19 के प्रबंधन के लिए संशोधित व्यापक दिशा-निर्देश’ में यह भी कहा है कि 5 साल और उससे कम उम्र के बच्चों के लिए मास्क की सिफारिश नहीं की जाती है। इसमें कहा गया है कि माता-पिता की सीधी देखरेख में 6-11 के बच्चे सुरक्षित और उचित तरीके से मास्क का उपयोग कर सकते हैं।
12 साल से अधिक उम्र के पहने मास्क : मंत्रालय ने कहा कि 12 वर्ष और उससे अधिक उम्र के लोगों को वयस्कों की तरह ही मास्क पहनना चाहिए। हाल में संक्रमण के मामलों खासकर ओमिक्रॉन वैरिएंट के कारण मामलों में वृद्धि के मद्देनजर विशेषज्ञों के एक समूह द्वारा दिशा-निर्देशों की समीक्षा की गई। मंत्रालय ने कहा कि अन्य देशों के उपलब्ध आंकड़े बताते हैं कि ओमिक्रॉन वैरिएंट के कारण होने वाली बीमारी कम गंभीर है। हालांकि महामारी की लहर के कारण सावधानीपूर्वक निगरानी की आवश्यकता है।
दिशा-निर्देश में संक्रमण के मामलों को लक्षणविहीन, हल्के, मध्यम और गंभीर के रूप में वर्गीकृत किया गया। मंत्रालय ने कहा कि बिना लक्षण वाले और हल्के मामलों में उपचार के लिए ‘एंटीमाइक्रोबियल्स या प्रोफिलैक्सिस’ की सिफारिश नहीं की जाती है।
मंत्रालय ने कहा कि मध्यम और गंभीर मामलों में एंटीमाइक्रोबियल्स दवाओं को तब तक नहीं देना चाहिए जब तक कि एक ‘सुपरएडेड इनफेक्शन’ का ​​संदेह ना हो। दिशा-निर्देश में कहा गया कि स्टेरॉयड का इस्तेमाल सही समय पर, सही खुराक में और सही अवधि के लिए किया जाना चाहिए। मंत्रालय ने कहा कि इन दिशा-निर्देशों की आगे और नए साक्ष्य की उपलब्धता पर समीक्षा की जाएगी और इसे अद्यतन किया जाएगा।
महाराष्ट्र में 45 हजार से ज्यादा मामले : महाराष्ट्र में गुरुवार को कोरोना वायरस संक्रमण के 46,197 नए मामले सामने आए जिसमें ओमीक्रोन के 125 मामले शामिल थे। स्वास्थ्य विभाग ने बताया कि पिछले एक दिन में महामारी से 37 मरीजों की मौत हो गई। विभाग ने कहा कि वर्तमान में 24,21,501 मरीज घर पर पृथक-वास में हैं और 3,391 अन्य मरीज संस्थागत पृथक-वास में हैं।
मुंबई, चेन्नई, पश्चिम बंगाल में ताजा मामलों में कमी
कर्नाटक में गुरुवार को कोविड-19 के 47,754 नए मामले सामने आए और 29 लोगों की संक्रमण से मौत हो गई जिससे राज्य में संक्रमण के कुल मामलों की संख्या 33,76,953 और मृतकों की कुल संख्या 38,515 हो गई है। वहीं मुंबई, चेन्नई और पश्चिम बंगाल में कोरोना वायरस के नए मामलों में कमी आई है। कर्नाटक में मंगलवार को कोविड-19 के 41,457 और बुधवार को 40,499 नए मामले आए थे। राज्य में अब उपचाराधीन मरीजों की कुल संख्या 2,93,231 हो गई है।
मुंबई में गुरुवार को कोरोना वायरस के 5708 नए मामले आए जो एक दिन पहले की तुलना में 324 कम है। आज 12 लोगों की संक्रमण से मौत हो गई जबकि 15,440 व्यक्ति संक्रमण से ठीक हुए।
बीएमसी ने बुलेटिन में बताया कि संक्रमण के नए मामलों के साथ ही देश की वित्तीय राजधानी में कोविड-19 के संक्रमण की कुल संख्या बढ़कर 10,23,707 हो गई है जबकि मृतकों की कुल संख्या 16,500 हो गई है। महानगर में लगातार दूसरे दिन कोविड-19 के मामलों में कमी आई और दो दिनों के अंतराल के बाद यह आंकड़ा 6000 से नीचे आया है।
मुंबई में बुधवार की तुलना में नए मामलों की संख्या में 324 की कमी हुई है लेकिन रोजाना मृतक दर स्थिर बनी रही। बुधवार को महानगर में कोविड-19 के 6032 नए मामले आए थे और संक्रमण से 12 लोगों की मौत हुई थी।
पश्चिम बंगाल में मामले घटे : पश्चिम बंगाल में गुरुवार को कोविड-19 के 10,959 नए मामले आए जो पिछले दिन की तुलना में 488 कम हैं। इसके साथ ही संक्रमितों की कुल संख्या 19,39,920 हो गई है। संक्रमण से 37 और लोगों की मौत हो गई जिससे मृतकों की कुल संख्या 20,230 हो गई है। राज्य में अब उपचाराधीन मरीजों की संख्या 1,44,809 है जो बुधवार की तुलना में 6893 कम है।

तमिलनाडु : राज्य कोविड-19 के 28,561 नए मामले सामने आए जिससे कुल संक्रमितों की संख्या 30,42,796 हो गई जबकि 39 और लोगों की मौत होने से मृतकों की कुल संख्या 37,112 हो गई है। यह जानकारी स्वास्थ्य विभाग ने दी। मेडिकल बुलेटिन में बताया गया कि पिछले 24 घंटे में 19,978 लोग संक्रमण से ठीक हुए जिससे ठीक होने वाले लोगों की कुल संख्या 28,26,479 हो गई है और राज्य में उपचाराधीन मरीजों की संख्या 1,79,205 रह गई है।
चेन्नई में घटी संख्या : चेन्नई में भी मामलों की संख्या में कमी आई है और यहां संक्रमितों की संख्या 7520 है जिसके बाद कोयंबटूर में 3390, चेंगलपेट में 2196 और कन्याकुमारी में 1148 व्यक्ति कोविड-19 से संक्रमित हुए हैं। चेन्नई में बुधवार को 8007 नए मामले सामने आए थे।

केरल में बढ़े प्रतिबंध : केरल सरकार ने राज्य में कोविड-19 के मामलों में वृद्धि के मद्देनजर गुरुवार को ताजा प्रतिबंधों की घोषणा की। मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने अमेरिका से डिजिटल माध्यम से, कोविड पर एक उच्च स्तरीय समीक्षा बैठक की अध्यक्षता की। बैठक में निर्णय लिया गया कि अगले दो रविवार- 23 जनवरी और 30 जनवरी को केवल आवश्यक सेवाओं के संचालन की अनुमति दी जाएगी।
बैठक में यह भी निर्णय लिया गया कि दो साल से कम उम्र के बच्चों वाली कामकाजी महिलाओं, कैंसर के रोगियों और गंभीर रूप से बीमार लोगों को घर से काम करने की अनुमति दी जाए। सरकार ने कहा कि अस्पताल में भर्ती होने वाले लोगों की संख्या के आधार पर जिला स्तर पर पाबंदियां लगाई जाएंगी।

इसके साथ ही राज्य सरकार ने आपदा प्रबंधन प्राधिकरण को जिलों को तीन समूहों- ए, बी और सी में विभाजित करने का निर्देश दिया है। सरकार ने कहा कि ‘ए’ श्रेणी में आने वाले जिलों में सभी प्रकार के सामाजिक, सांस्कृतिक, धार्मिक, राजनीतिक, वैवाहिक और सार्वजनिक कार्यक्रमों में 50 से ज्यादा लोग शामिल नहीं हो सकेंगे। ‘बी’ और ‘सी’ श्रेणी में जिलों में इस प्रकार की किसी भी गतिविधि की अनुमति नहीं होगी। से क्षेत्रों में, धार्मिक प्रार्थना ऑनलाइन माध्यम से ही की जा सकेगी और शादी तथा अंतिम संस्कार में 20 से अधिक लोगों को एकत्र होने की इजाजत नहीं दी जाएगी। ‘सी’ श्रेणी में जिलों में सिनेमाघर, स्वीमिंग पूल और जिम खोलने की अनुमति नहीं होगी।



और भी पढ़ें :