हिफाजत करने और हक जताने में बड़ा फर्क है : अनंग देसाई

पुनः संशोधित बुधवार, 23 दिसंबर 2020 (15:14 IST)
किसी के प्रति हक जताने में और उसकी हिफाजत करने में बड़ा फर्क है। प्यार का असली मतलब समझने के लिए इस फर्क को समझना जरूरी है। यह कहना है का, जिन्होंने एक प्रतिभाशाली एक्टर के रूप में अपना लोहा मनवाया है और इस समय सोनी एंटरटेनमेंट टेलीविजन के शो 'मेरे साईं' में गजानन की भूमिका निभा रहे हैं।

गजानन एक समर्पित पारिवारिक आदमी था, लेकिन अपनी जिंदगी में हुई कुछ दुर्भाग्यपूर्ण घटनाओं और परिस्थितियों की वजह से उसके परिवार ने उससे दूरी बना ली थी। जो प्यार उसे अपने परिवार से नहीं मिला, उसकी वजह से उसके मन में कड़वाहट आ गई और वो आक्रमक हो गया। इसलिए वो जबरदस्ती साईं का प्रेम हासिल करना चाहता था।
गजानन का रोल निभाने को लेकर अनंग देसाई ने कहा, गजानन की जिंदगी में हुई कुछ दुर्भाग्यपूर्ण घटनाओं की वजह से उसके व्यवहार में अधिकार भाव आ जाता है। उसे अपने परिवार से वो प्यार नहीं मिला, इसलिए अब वो साईं से जबर्दस्ती ये प्यार चाहता है, जो यकीनन गलत है। इस खास ट्रैक ने मुझे महसूस कराया कि किसी के प्रति रक्षात्मक होने और उस पर अपना अधिकार जताने में बड़ा फर्क है। प्यार, परवाह और दया की हमेशा जीत होती है।
अनंग आगे बताते हैं, साईं हमें अपनी कमजोरियों और असुरक्षा से ऊपर उठकर एक मजबूत इंसान बनने की सीख देते हैं। वो हमेशा समस्याएं सुलझाते हैं और लोगों में प्यार और स्नेह बांटते हैं। यही बात गजानन के स्वभाव में बदलाव लाती है और उसे एक बेहतर इंसान बनाती है। मैं व्यक्तिगत तौर पर भी इसमें आस्था रखता हूं।



और भी पढ़ें :