हमारा भोजन कैसा हो

क्या खाएँ, क्या न खाएँ

गायत्री शर्मा|
हमें फॉलो करें
'खाना हमारे लिए है, हम खाने के लिए नहीं है' यदि हम इस सिद्धांत को स्वस्थ शरीर का मूल मंत्र मानकर भोजन की उचित मात्रा को प्रेम से ग्रहण करेंगे, तो नि:संदेह ही वह भोजन हमारे शरीर के लिए फायदेमंद साबित होगा।



और भी पढ़ें :