मिथुन संक्रांति पूजा विशेष : 15 जून को कैसे करें सूर्यदेव को प्रसन्न, पढ़ें 15 मंत्र

Sun Worship
 
15 जून से सूर्यदेव मिथुन राशि में प्रवेश कर रहे हैं, इसे मिथुन संक्रांति पर्व (mithun sankranti) कहते है। इस दिन देवता का पूजन करने, उन्हें अर्घ्य देने से जीवन में खुशियों का संचार होता है। सूर्य आरोग्य देने वाले, ज्ञान, आध्यात्म और प्रकाश के प्रतीक माने जाते हैं।

अगर आप भी सूर्यदेव (Lord Sun) का पूजन कर रहे हैं तो आज निम्न मंत्रों में से किसी भी मंत्र का जाप कम से कम 108 बार या अधिक से अधिक मात्रा में करना चाहिए। यहां पढ़ें 15 खास मंत्र-

mithun sankranti 2022

मंत्र-Lord surya mantra

1. ॐ ह्रां ह्रीं ह्रौं सः सूर्याय नमः

2. ॐ आदित्याय नम:

3. ॐ सप्तार्चिषे नम:

4. ॐ ऋगमंडलाय नम:

5. ॐ सवित्रे नम:

6. ॐ वरुणाय नम:

7. ॐ सप्तसप्त्ये नम:

8. ॐ मार्तण्डाय नम:

9. ॐ विष्णवे नम:

10. ॐ सूर्याय नम:

11. ॐ घृणि सूर्याय नम:

12. ॐ घृ‍णिं सूर्य्य: आदित्य:

13. ॐ ह्रीं घृणिः सूर्य आदित्यः क्लीं ॐ

14. ॐ घृणि: सूर्यादित्योम





और भी पढ़ें :