ख्वाहिश

WD|
शायद कोई ख्वाहिश रोती रहती है,
मेरे अन्दर बारिश होती रहती है।

-अहमद फ़राज़



और भी पढ़ें :