तीन केन्द्र शासित क्षेत्र खाली हाथ लौटेंगे

राँची| भाषा|
हमें फॉलो करें
में संपन्न राष्ट्रीय खेलों से तीन केन्द्र शासित प्रदेश बिलकुल खाली हाथ लौटेंगे क्योंकि उन्हें किसी भी स्पर्धा में एक भी पदक हासिल नहीं हो सका जबकि सेना 70 स्वर्ण पदक जीतकर अपना झंडा सबसे ऊपर लहराते यहाँ से वापस जाएगी।


34वें राष्ट्रीय खेलों में आयोजित स्पर्धाओं का आज यहाँ टेबल टेनिस प्रतियोगिताओं के फाइनल के साथ समापन हो गया जिसके बाद पदक तालिका में सेना 70 स्वर्ण 50 रजत और 42 काँस्य पदकों के साथ कुल 162 पदक जीतकर शीर्ष पर रही जबकि इसके बाद मणिपुर ने कुल 48 स्वर्ण 37 रजत और 33 काँस्य पदकों के साथ 118 पदक जीते।

आज संपन्न हुए इन खेलों में कुल तीन केन्द्र शासित प्रदेशों को कोई पदक प्राप्त नहीं हुआ और उन्हें खाली हाथ ही वापस लौटना पड़ेगा, जिसमें पांडिचेरी, दीयू और दमन एवं दादर नगर हवेली शामिल हैं।

खेलों में तीन तीन राज्यों के अलावा छह ऐसे राज्य भी थे जिन्हें एक भी स्वर्ण पदक हासिल नहीं हो सका। इस प्रकार कुल मिलाकर खेल में शामिल 35 टीमों में से नौ टीमों को एक भी स्वर्ण पदक हाथ नहीं लगा।


राष्ट्रीय खेलों में कुल 444 स्वर्ण 447 रजत और 588 काँस्य समेत 1479 पदकों का फैसला हुआ। खाली हाथ लौटने वाले केन्द्र शासित क्षेत्रों के अलावा जिन राज्यों को एक भी स्वर्ण पदक हासिल नहीं हो सका उनमें नागालैंड मिजोरम चंडीगढ़, अरुणाचल, गुजरात और जम्मू कश्मीर भी शामिल हैं।
खेलों में हरियाणा ने कल कुश्ती में पाँच महिला हॉकी में एक और मुक्केबाजी में तीन स्वर्ण पदकों के साथ कुल नौ नए स्वर्ण पदक जीते और 42 स्वर्ण 33 रजत और 40 काँस्य के साथ कुल 115 पदक जीतकर पदक तालिका में महाराष्ट्र को पछाड़ते हुए तीसरे स्थान पर बना रहा। कुश्ती में इससे पहले दो दिनों में हरियाणा नौ स्वर्ण पदक जीते थे।

महाराष्ट्र की मधुरिका ने तमिलनाडु की शामिनी को कड़े संघर्ष में 4-3 से टेबल टेनिस में पराजित कर आज अपने राज्य को एक और स्वर्ण पदक दिलाया, जिसे मिलाकर 41 स्वर्ण 44 रजत और 47 काँस्य पदक जीतकर कुल 132 पदकों के साथ पदक तालिका में महाराष्ट्र चौथे स्थान पर रहा।
मेजबान झारखंड ने कल भी तीरंदाजी में तीन तथा भारोत्तोलन एवं मुक्केबाजी में तीन अन्य स्वर्ण पदकों के साथ कुल छह स्वर्ण पदक जीते। इन छह स्वर्ण पदकों के साथ उसने कुल 33 स्वर्ण 26 रजत और 37 काँस्य के साथ कुल 96 पदक जीतकर पदक तालिका में पांचवां स्थान हासिल किया।

दिल्ली ने कल अपने खाते में एक और स्वर्ण पदक जीता। वह 32 स्वर्ण 26 रजत और 41 काँस्य पदकों के साथ कुल 99 पदक जीतकर पदक तालिका में छठे स्थान पर रही।
पदक तालिका में सातवें स्थान पर केरल की टीम है जिसने कुल 30 स्वर्ण 29 रजत और 28 काँस्य के साथ कुल 87 पदक जीते हैं। आज उसे कोई पदक हासिल नहीं हो सका।

पदक तालिका में आठवें स्थान पर मध्यप्रदेश है, जिसने कल दो नए स्वर्ण पदक जीते। मध्यप्रदेश के खाते में 25 स्वर्ण 32 रजत और 46 काँस्य के साथ कुल 103 पदक हैं।
पंजाब ने कल पुरुष हॉकी के स्वर्ण के साथ कुल दो नए स्वर्ण पदक अपने खाते में जोड़े और इसके अलावा आज उसने टेबल टेनिस में एक रजत पदक जीता, जिन्हें मिलाकर उसने कुल 23 स्वर्ण 38 रजत और 54 काँस्य पदक जीते हैं। कुल 115 पदकों के साथ वह पदक तालिका में नवें स्थान पर है।

पदक तालिका में उत्तरप्रदेश ने कल एक और स्वर्ण के साथ 20 स्वर्ण, 22 रजत और 28 काँस्य के साथ कुल 70 पदक जीतकर 10वाँ स्थान हासिल किया।
कर्नाटक 16 स्वर्ण 19 रजत और 20 काँस्य पदकों के साथ कुल 55 पदक जीतकर पदक तालिका में 11वें और टेबल टेनिस में आज एक और स्वर्ण पदक के साथ 14 स्वर्ण 12 रजत और 27 काँस्य पदकों को मिलाकर 53 पदकों के साथ तमिलनाडु 12वें स्थान पर है। (भाषा)



और भी पढ़ें :