ध्यानचंद की हॉकी के कायल थे ब्रैडमैन

नई दिल्ली (भाषा)| भाषा|
भारतीय खेलों को अंतरराष्ट्रीय पहचान देने वाले पहले युग पुरुष दद्दा ध्यानचंद ने अपनी करिश्माई हॉकी से जर्मन तानाशाह हिटलर ही नहीं बल्कि महान क्रिकेटर डॉन ब्रैडमैन को भी अपना कायल बना दिया था।

यह भी संयोग है कि खेल जगत की इन दोनों महान हस्तियों का जन्म दो दिन के अंदर पर पड़ता है। दुनिया ने 27 अगस्त को ब्रैडमैन की जन्मशती मनाई तो 29 अगस्त को वह ध्यानचंद को नमन करने के लिए तैयार है, जिसे भारत में खेल दिवस के रूप में मनाया जाता है। ब्रैडमैन हाकी के जादूगर से उम्र में तीन साल छोटे थे।

अपने-अपने फन में माहिर ये दोनों खेल हस्तियाँ केवल एक बार एक-दूसरे से मिले थे। वह 1935 की बात है जब भारतीय टीम आस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड के दौरे पर गई थी। तब भारतीय टीम एक मैच के लिए एडिलेड में थी और ब्रैडमैन भी वहाँ मैच खेलने के लिए आए थे।
ब्रैडमैन और ध्यानचंद दोनों तब एक-दूसरे से मिले थे। ब्रैडमैन ने तब हॉकी के जादूगर का खेल देखने के बाद कहा था कि वे इस तरह से गोल करते हैं, जैसे क्रिकेट में रन बनते हैं। यही नहीं ब्रैडमैन को बाद में जब पता चला कि ध्यानचंद ने इस दौरे में 48 मैच कुल 201 गोल दागे तो उनकी टिप्पणी थी, यह किसी हॉकी खिलाड़ी ने बनाए या बल्लेबाज ने।

ध्यानचंद ने इसके एक साल बाद बर्लिन ओलिम्पिक में हिटलर को भी अपनी हॉकी का कायल बना दिया था। उस समय सिर्फ हिटलर ही नहीं, जर्मनी के हॉकीप्रेमियों के दिलोदिमाग पर भी एक ही नाम छाया था और वह था ध्यानचंद।
हॉकी के इस महान खिलाड़ी का जन्म 29 अगस्त 1905 को हुआ था। यह उनकी जादुई हॉकी का ही कमाल था कि हालैंड ने यह जाँच करने के लिए उनकी स्टिक तोड़ दी थी कि उसके अंदर चुंबक लगा है। जापानियों को लगा कि उनकी स्टिक पर गोंद लगा है, जबकि जर्मनी में हिटलर ने उन्हें खरीदने की कोशिश की थी।

ध्यानचंद ने तीन ओलिम्पिक खेलों में भारत का प्रतिनिधित्व किया तथा तीनों बार देश को स्वर्ण पदक दिलाया। आँकड़ों से भी पता चलता है कि वह वास्तव में हॉकी के जादूगर थे। भारत ने 1932 में 37 मैच में 338 गोल किए, जिसमें 133 गोल ध्यानचंद ने किए थे।
ध्यानचंद की अगुवाई में 1947 में भारत की युवा टीम ने पूर्वी अफ्रीका का दौरा किया। असल में तब जो न्यौता दिया गया था, उसमें लिखा गया था कि यदि ध्यानचंद नहीं तो कोई टीम नहीं। ध्यानचंद तब 42 साल के थे और उन्होंने 22 मैच में 61 गोल दागे।

 

और भी पढ़ें :