गुर्जर-सरकार वार्ता सोमवार को

सरकार झुकी, बयाना में ही होगी बातचीत

जयपुर (भाषा)| भाषा|
हमें फॉलो करें
गुर्जर आदोलनकारियों और राजस्थान सरकार के बीच सोमवार को भरतपुर जिले के बयाना कस्बे में बातचीत शुरू होगी। भाजपा सूत्रों ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि वार्ता रविवार शाम शुरू होने वाली थी, लेकिन शाम होने के कारण अब यह बातचीत सोमवार सुबह बयाना में होगी।


राजस्थान सरकार ने एक बार फिर अपने कदम पीछे खींचते हुए राजस्थान गुर्जर आरक्षण संघर्ष समिति के संयोजक कर्नल किरोड़ीसिंह बैंसला के प्रस्ताव को स्वीकार किया। राजस्थान सरकार और भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता और सांसद प्रकाश जावड़ेकर ने वार्ता बयाना में करने से इनकार कर दिया था और जयपुर में बातचीत कराए जाने को लेकर अडिग थे।

अखिल भारतीय गुर्जर संघर्ष समिति के मुख्य संरक्षक विधायक रामवीर विधूड़ी ने कहा कि राजस्थान सरकार पहले ही बैंसला के बयाना में बातचीत करने के प्रस्ताव को मंजूर कर लेती तो वार्ता आज निर्णायक स्थिति में पहुँच जाती।

विधूड़ी ने कर्नल बैंसला से राजस्थान सरकार के साथ होनी वाली वार्ता में गुर्जर प्रतिनिधिमंडल में दस सदस्य रखने का अनुरोध किया है। साथ ही यह भी अनुरोध किया है कि ये सभी सदस्य राजस्थान के हों।


उन्होंने प्रतिनिधिमंडल में वकील, सेवानिवृत प्रशासनिक अधिकारी, सेवानिवृत सैन्य तथा पुलिसकर्मी को शामिल करने का आग्रह किया है, जिससे हर बिन्दु पर बातचीत हो सके और वार्ता में किसी वजह से विलम्ब नहीं हो। उन्होंने कहा कि शुरुआती वार्ता में कर्नल बैंसला भी मौजूद रह सकते हैं। वैसे अंतिम दौर की वार्ता में तो कर्नल बैंसला मौजूद रहेंगे ही।
इस बीच राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने अपने मंत्रिमंडल के वरिष्ठ सहयोगियों, भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता प्रकाश जावडेक़र, राजस्थान प्रदेश भाजपा अध्यक्ष और सांसद ओमप्रकाश माथुर और भाजपा के राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष सांसद रामदास अग्रवाल के साथ गुर्जर आंदोलन की समीक्षा की और इसके समाधान को लेकर विचार विमर्श किया।
इस बीच राजस्थान में गुर्जर आंदोलन के आज सत्रहवें दिन अजमेर जिले में आंदोलनकारियों द्वारा राष्ट्रीय राजमार्ग कुछ घंटे के लिए जाम करने को छोड़कर अन्य किसी स्थान से अप्रिय घटना के समाचार नहीं हैं। पुलिस ने कल भरतपुर जिले के पीलूकापुरा से तीन लोगों को अवैध हथियारों के साथ गिरफ्तार किया है। पुलिस शस्त्र अधिनियम के तहत मामला दर्ज कर प्रकरण की जाँच कर रही है।
उधर दौसा जिले के सिकंदरा मोड़ पर आंदोलनकारियों के मुख्य मार्ग पर धरना देने के कारण जयपुर-आगरा राष्ट्रीय राजमार्ग तथा सवाई माधोपुर जिले के कुशालीपुरा दर्रा से गुजर रहे राजस्थान और मध्यप्रदेश को जोड़ने वाले अंतरराज्यीय मार्ग पर यातायात अवरुद्ध रहा। कर्नल बैंसला बयाना के पीलूकापुरा से निकल रहे रेल ट्रैक पर हजारों आंदोलनकारियों के साथ बैठे हैं।
गौरतलब है कि कर्नल बैंसला ने गुर्जर समाज को अनुसूचित जनजाति की श्रेणी में शामिल करने की सिफारिश का पत्र केन्द्र सरकार को भेजे जाने की माँग को लेकर 23 मई को डूमरिया पुल के निकट रेल रोको आंदोलन शुरू किया था।

आंदोलन के दौरान कारवाड़ी (भरतपुर), सिकंदरा मोड़ (दौसा) और सवाई माधोपुर के कुशालीपुरा दर्रा में हुई पुलिस गोलीबारी में 38 आंदोलनकारी मारे जा चुके हैं। 38 मृतकों में से बीस का अंतिम संस्कार कल हुआ, जबकि शेष मृतकों की अंत्येष्टि इससे पहले हो गई थी।



और भी पढ़ें :