बलात्कार मामले में चार मनसे कार्यकर्ता बंदी

मुंबई (भाषा)| भाषा| पुनः संशोधित शनिवार, 25 जुलाई 2009 (20:18 IST)
हमें फॉलो करें
घरेलू कामकाज करने वाली एक 13 साल की लड़की के साथ जिन चार लोगों ने कथित तौर पर सामूहिक किया, उनके बारे में संदेह है कि वह उपनगरीय अंधेरी के महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के कार्यकर्ता हैं।

पुलिस ने शनिवार को कहा कि आरोपियों की पहचान गणेश गटकल (29), गणेश काले (30), नरेद्र सालुंके (26) और उमेश बोरांडे (28) के तौर पर की गई है। उन्होंने बताया कि इन लोगों को कल शाम मरोल गाँव से गिरफ्तार किया गया। पीड़ित भी इसी इलाके में रहती है।

पुलिस के अनुसार पीड़ित का रविवार की शाम को उस समय यौन उत्पीड़न किया गया जब वह अपनी बड़ी बहन के साथ अपनी चाची के घर जा रही थी।

वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक पी. सूर्यवंशी ने बताया कि दोनों लड़कियाँ मरोल मारोशी रोड पर थीं जब एक इंडिका कार अचानक उनके सामने रुकी और वाहन में सवार चार में से दो अभियुक्तों ने उन्हें भीतर खींच लिया और निकट के डीएचएल परिसर के निकट म्युनिसिपल गार्डन गए।


सूर्यवंशी ने कहा कि जब गार्डन में वे उतरे तो पीड़ित की बड़ी बहन भागने में कामयाब हो गई। उन्होंने कहा कि गाटकर और काले ने जहाँ के साथ बलात्कार किया वहीं सालुंके और बोरांडे ने आसपास नजर रखी।
उन्होंने कहा कि चारों ने पीड़ित को धमकी दी कि वह किसी को यदि घटना के बारे में बताएगी तो उसकी हत्या कर दी जाएगी।

उन्होंने कहा कि पूछताछ में पता चला कि चारों राज ठाकरे के नेतृत्व वाली एमएनएस के कार्यकर्ता हैं। इस बीच शिवसेना के कार्यकर्ताओं ने अभियुक्तों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की माँग को लेकर थाने के बाहर प्रदर्शन किया।
सूर्यवंशी ने कहा कि पीड़ित की बड़ी बहन ने अपनी चाची को घटना की जानकारी दी, लेकिन वे शुक्रवार को ही शिकायत दर्ज कराने का साहस जुटा पाए।



और भी पढ़ें :