द अफ्रीका की भारतीय महिलाएं करती हैं करवा चौथ

भाषा|
FILE

दक्षिण अफ्रीका में 1860 में अपने कदम रखने के करीब 150 साल बाद भी यहां बसे भारतीय अपनी सभ्यता और संस्कृति को नहीं भूले हैं। दक्षिण अफ्रीका के जोहान्सबर्ग शहर में महिलाओं को भारतीयता की पहचान का प्रतीक पोशाक, साड़ी पहने देखा जा सकता है।

इतना ही नहीं पति की दीर्घायु की कामना के लिए उत्तर भारत का लोकप्रिय पर्व भी पूरी श्रद्धा और उत्साह के साथ दक्षिण अफ्रीका में की महिलाओं द्वारा मनाया जाता है। इसी नगर में इन दिनों हो रहा है।
भारतीयों ने पहली बार 1860 में दक्षिण अफ्रीका की सरजमीं पर पैर रखा था और वे इस देश के क्वाजुलू नटाल प्रांत में गन्ने के खेतों में बतौर मजदूर काम करने के लिए ‘तिरोरो’ नामक जहाज पर सवार होकर यहां आए थे।

दक्षिण अफ्रीका में मोहनदास करमचंदगांधी के संघर्ष के दिनों से लेकर उनके महात्मा बनने तक की गाथा को ‘पहला गिरमिटिया’ के जरिए पेश करने वाले और पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित ने इस देश में भारतीयों की जीवनशैली के बारे में दिलचस्प जानकारी दी।
FILE
उन्होंने बताया कि दक्षिण अफ्रीका में भारतीय महिलाएं आज भी करवा चौथ का व्रत रखती हैं तथा साड़ी पहन कर और पूरा साज-श्रृंगार कर परंपरागत तरीके से पूजा करती हैं। उन्होंने बताया कि दक्षिण अफ्रीका में जा बसे भारतीय मूल के लोग हिंदी भाषा को भूलभाल गए हैं लेकिन गुजराती समुदाय के लोग गुजराती जरूर बोलते हैं।
गिरिराज ने बताया कि हिंदुस्तानी समुदाय अपनी हिंदी भाषा को भले ही भूल गया हो लेकिन खान-पान में आज भी भारतीयता की खुशबू बरकरार है। वर्ष 2010 में 12 लाख से अधिक भारतीय मूल के दक्षिण अफ्रीकी लोगों ने देश में अपने समुदाय की बसाहट की 150वीं वषर्गांठ मनाई थी।

दक्षिण अफ्रीका और विशेष कर इसके जोहान्सबर्ग के फोर्डसबर्ग की सड़कों और बाजारों में साड़ी पहने महिलाएं खुद ही अपनी भारतीयता की पहचान कराती हैं। भारतीय भोजन देश भर में लोकप्रिय हैं और भारतीय रेस्त्रां यहां काफी लोकप्रिय हैं, जहां सप्ताहांत में लोगों की अच्छी-खासी भीड़ जुटती है।
यह भी दिलचस्प बात है कि हिंदुस्तान के बाहर दक्षिण अफ्रीका में भारतीय मूल के लोगों की सर्वाधिक आबादी है और इस समुदाय के लोगों ने अपनी सांस्कृतिक विरासत, भाषा और धार्मिक मान्यताओं को पूरी तरह सहेज कर रखा है फिर चाहे वे भारत से आए ईसाई हों या हिन्दू या मुस्लिम।

दक्षिण अफ्रीका में बसे भारतीय समुदाय के लोग मुख्य रूप से अंग्रेजी बोलते हैं लेकिन तेलुगू, तमिल और गुजराती भाषा को अपनी दूसरी भाषा के रूप में संजोया हुआ है और अधिकतर घरों में यही भाषा बोली जाती है। उत्तर भारत से ताल्लुक रखने वाले कुछ परिवार हिंदी भी बोलते हैं। (भाषा)



और भी पढ़ें :