नए साल के जश्न में डूबी दुनिया

WD|
PTI
दुनियाभर में नए साल 2011 का स्वागत बेहद गर्मजोशी के साथ किया गया है। भारत में जैसे ही घड़ी की सुईयों ने 12 बजाए वैसे देशभर में नए साल की अगवानी के साथ लोग एक दूसरे को नववर्ष की बधाई देने लगे। लोगों ने 2010 को 'गुडबाय' किया और 'हैप्पी न्यू ईयर' के साथ नए साल का जश्न मनाना शुरु कर दिया।

मुंबई, दिल्ली, कोलकाता, बेंगलुरु, चेन्नई और गोवा के साथ ही देश के कई महानगरों से नववर्ष मनाने के समाचार मिल रहे हैं। गोवा में 1971 में स्थापित 'टीटोज' में मस्तीभरा माहौल दिखाई दिया और सभी झूमने के साथ नाच गाकर 2011 का स्वागत कर रहे थे। यहाँ पर 11 हजार दर्शकों ने एक साथ नए साल का स्वागत किया। टिटोज में भड़कीले नृत्य के साथ अन्य आयटम भी पेश किए गए।
दिल्ली और मुंबई के कई प्रमुख होटलों में पहले से ही सीटें बुक हो चुकी थी और बॉलीवुड अदाकाराओं के अलावा आयटम डांसर और कई नवोदित अभिनेत्रियाँ शोख अदाओं के साथ अपना परफॉरमेंस दे रही थी।

देर रात तक नए साल के स्वागत का जश्न जारी था। जहाँ पर टीवी की पहुँच नहीं है, वहाँ पर रेडियो ने अपना कमाल दिखाया। बिग एफएम पर अभिषेक बच्चन, शाहरुख खान, सुनिधि चौहान, करण जौहर आदि ने देशवासियों को नववर्ष की शुमकानाएँ दी।
मलिका शेरावत का 1 करोड़ का ठुमका : बॉलीवुड की सेक्सी अदाकारा मल्लिका शेरावत ने मुंबई के एक होटल में अपना डेरा जमाया और देर रात तक वे अपना प्रोग्राम पेश करती रहीं। मल्लिका ने इस शो के लिए पूरे एक करोड़ रुपए लिए हैं।

दिल्लीवासियों ने जोश के साथ किया स्वागत : लोकप्रिय बाजारों में लोगों की भारी भीड़ के बीच छोटे वुवुजेला और प्लास्टिक हॉर्न की आवाजों के बीच दिल्लीवासियों ने नववर्ष का उमंग और उत्साह के साथ स्वागत किया।
घड़ी में 12 बजते ही तरह तरह के मुखौटे पहने लोगों ने कारों के हॉर्न बजाकर और एक दूसरे को गले लगाकर नई आशाओं और अभिलाभाषाओं के साथ नववर्ष में प्रवेश किया। नववर्ष के शानदार ढंग से स्वागत करने के लिए बड़ी संख्या में लोग लोकप्रिय बाजारों, माल और अन्य स्थानों पर पहुँचे।

राजधानी दिल्ली का मुख्य केंद्र माने जाने वाला क्नाट प्लेस शानदार ढंग से सजाया गया था। यहाँ आने वाले लोग तरह तरह के परिधान पहने हुए थे। इसके अलावा इंडिया गेट और अन्य लोकप्रियस्थलों पर किशोर, जोड़े, अभिभावकों के साथ बच्चे और मित्र कार में बज रहे गीतों पर झूमते देखे गए।
नववर्ष पर होने वाली भीड़ के मद्देनजर क्नाट प्लेस क्षेत्र में वाहनों के प्रवेश पर रोक लगा दी गई थी। कानून व्यवस्था की स्थिति पर नजर रखने के लिए बड़ी संख्या में पुलिसकर्मी तैनात थे लेकिन उन्होंने लोगों के जश्न में कोई खलल नहीं डाली।

छिन्नमस्तका मंदिर में 2 लाख भक्त : राँची में नववर्ष की पूर्व संध्या पर राजधानी से लगभग 75 किलोमीटर दूर रामगढ़ के रजरप्पा स्थित सिद्ध पीठ छिन्नमस्तका देवी के मंदिर समेंत तमाम मंदिरों में दर्शन पूजन के लिए लोगों की भारी भीड उमड पड़ी जबकि युवा वर्ग ने अधिकतर शहर के आसपास के पर्यटन स्थलों पर पिकनिक मनाकर इस अवसर को यादगार बनाया।
राजधानी राँची और आसपास के अन्य शहरों से हजारों की संख्या में लोग नववर्ष के स्वागत में छिन्नमस्तका मंदिर में एकत्रित होने लगे थे और शाम ढलने तक मंदिर में कम से कम 2 लाख श्रद्धालुओं ने सिद्ध माता मंदिर में दर्शन पूजन कर अपने अभिन्न लोगों और समाज के लिए मन्नतें माँगी।

इसके अलवा राँची के प्रसिद्ध पहाडी मंदिर दुर्गा मंदिर सांई मंदिर और हनुमान मंदिर में भी सुबह से शाम तक भक्तों का ताँता लगा रहा और इन मंदिरों में तथा शहर के अन्य प्रसिद्ध मंदिरों में भक्तों की लंबी कतार लगी रही। लोग इन मंदिरों सपरिवार बडी संख्या में पहुँचे।
विदेशों में भी दिल खोलकर नववर्ष का स्वागत : प्रशांत महासागर के इस हिस्से में सूर्य पहले निकलता है और टाइम जोन के हिसाब से इस हिस्से में दिन और रात पहले शुरू होते हैं। यहाँ की घड़ियां इनसे पश्चिमी के देशों से आगे चला करती हैं और यही वजह है कि यहाँ नया साल भी पहले आता है।

आम तौर पर क्रिकेट मैचों के लिए मशहूर न्यूजीलैंड का ऑकलैंड 2010 और 2011 के बीच की कड़ी का गवाह बना। सार्वजनिक जगहों पर हजारों लोगों ने नए साल का स्वागत किया।
घड़ी की सुइयों ने जैसे ही 12 बजाए, ऑकलैंड में एक ऊँची मीनार से आतिशबाजी की लड़ियाँ फूट पड़ीं। रंग-बिरंगी किरणों से आधी रात में भी आसमान गुलजार हो गया। पास में ही न्यूजीलैंड के राष्ट्रीय चैनल टीवी न्यूजीलैंड का बड़ा सा बिलबोर्ड रोशनी में नहाता हुआ दिखा, मानो साल 2011 का रंगीन स्वागत कर रहा हो।

टेलीविजन चैनलों पर इस घड़ी का सीधा प्रसारण किया गया और पश्चिमी देशों के समाचार चैनलों ने भी इसके साथ ही अपने दर्शकों को नए साल की बधाई दे दी। सिडनी में भी नए साल का स्वागत दिल खोकर किया गया। सिडनी हार्बर पर हमेशा की तरह हुई आतिशबाजी के गवाह हजारों लोग बने। (वेबदुनिया/एजेंसियाँ)



और भी पढ़ें :