सुनील गावस्कर ने कहा- बदलाव लाना चुनौती

नई दिल्ली| भाषा| पुनः संशोधित शुक्रवार, 30 मई 2014 (18:20 IST)
हमें फॉलो करें
FILE
नई दिल्ली। 1 जून को आईपीएल फाइनल के साथ का कार्यकाल भी पूरा हो जाएगा और उनका मानना है कि की भूमिका निभाने के इच्छुक किसी भी पूर्व खिलाड़ी के लिए अपने सुझावों पर अमल कराना बड़ी चुनौती है।


गावस्कर ने ‘आईपीएल टी-20’ वेबसाइट पर कहा कि प्रशासन में आने वाले खिलाड़ियों के लिए सबसे बड़ी चुनौती अपने सुझावों पर प्रशासन के बाकी सदस्यों की सहमति बनवाना है।

उन्होंने कहा कि अक्सर हम बदलाव के प्रति उदासीन रहते हैं। प्रशासक बने एक खिलाड़ी के लिए यह बड़ी चुनौती है। मेरा कार्यकाल बमुश्किल 4-5 सप्ताह का रहा, लिहाजा मैं इस पर कोई टिप्पणी नहीं कर सकता।

उन्होंने कहा कि उन्हें अपने सुझावों पर अमल कराने में दिक्कत इसलिए नहीं आई, क्योंकि यहां मजबूत व्यवस्था है।


उन्होंने कहा कि जब मैंने पद संभाला तो मेरा फोकस आईपीएल को ‘मीडिया फ्रेंडली’ बनाना था। मीडिया को यथासंभव जानकारियां देना जरूरी है ताकि अटकलबाजियों पर रोक लगे।
गावस्कर ने कहा कि यह मीडिया से जुड़े लोग ही बताएंगे कि यह सफल रहा या नहीं लेकिन मेरा मानना है कि बीसीसीआई और आईपीएल का मीडिया संपर्क इस बार बेहतर रहा। उन्होंने कहा कि आईपीएल सात की खासियत संयुक्त अरब अमीरात चरण का सफल आयोजन था। (भाषा)



और भी पढ़ें :