पी-नोट्स है तो कर देने की जरूरत नहीं : प्रणब मुखर्जी

नई दिल्ली| भाषा| पुनः संशोधित शुक्रवार, 30 मार्च 2012 (17:48 IST)
FILE
विदेशी निवेश के बारे में अनिश्चितता दूर करते हुए वित्त मंत्री प्रणब मुखर्जी ने शुक्रवार को कहा कि (पी-नोट्स) के जरिए में निवेश करने वाले व्यक्ति को भारत में कर नहीं देना होगा। वित्त मंत्री के इस बयान के बाद शेयर बाजारों में जोरदार उछाल आया।


मुखर्जी ने कहा कि भारतीय कर अधिकारी वित्तीय संस्थागत निवेशकों (एफआईआई) से आगे जाकर पी-नोट्स धारकों की जानकारियों की जांच नहीं करेंगे। ऐसे में पी-नोट्स धारकों पर भारत में कर देनदारी का सवाल ही पैदा नहीं होता। इस बारे में जरूरी स्पष्टीकरण जल्द जारी किया जाएगा।

वित्त मंत्री के आश्वासन के बाद दोपहर के समय बंबई शेयर बाजार के सेंसेक्स में 285.66 अंक की तेजी आई। पी-नोट्स के जरिए ऐसे विदेशी संस्थागत निवेशक (एफआईआई) जो बाजार नियामक सेबी के पास पंजीकृत नहीं हैं, भारतीय शेयर बाजार में निवेश कर सकते हैं।

विदेशी निवेश पर वित्त विधेयक, 2012 के प्रावधानों का उल्लेख करते हुए मुखर्जी ने कहा कि मैं स्पष्ट करना चाहता हूं कि सरकार का इरादा सही निवेशकों को कतई परेशान करने का नहीं है। (भाषा)



और भी पढ़ें :