सौदा न होने से निवेश बैंकरों को नुकसान

नई दिल्ली (भाषा) | भाषा| पुनः संशोधित शुक्रवार, 2 अक्टूबर 2009 (19:11 IST)
और दक्षिण अफ्रीकी कंपनी के बीच विलय का सौदा सिरे नहीं चढ़ने से निवेश बैंकरों को 4.8 करोड़ डॉलर तक का हुआ है। अगर यह सौदा हो जाता है यह मोटी रकम इन बैंकरों के जेब में जा सकती थी।

निवेश बैंकर आमतौर पर संपूर्ण सौदे का आधा से दो फीसद के बीच परामर्श शुल्क के तौर पर वसूलते हैं। यद्यपि निवेश बैंकरों को इस सौदे से कितनी कमाई हो सकती थी, इसका सटीक आँकड़ा उपलब्ध नहीं हो सका, लेकिन 24 अरब डॉलर के प्रस्तावित सौदे की उपरी सीमा पर शुल्क आय के तौर पर यह राशि 4.8 करोड़ डॉलर तक जा सकती थी।

बैंक ऑफ अमेरिका, मेरिल लिंच और ड्यूश बैंक एमटीएन को परामर्श दे रहे थे, जबकि स्टैंडर्ड चार्टर्ड और बार्कलेज भारती एयरटेल को सलाह दे रहे थे।
विशेषज्ञों ने कहा कि यद्यपि शुल्क आय के तौर पर एक छोटा हिस्सा पहले ही इन बैंकरों की जेब में जा चुका है, लेकिन इन्हें सौदा पूरा होने के बाद आमतौर पर एक मोटी रकम मिलती है। हालाँकि वकीलों एवं एकाउंटेंटों को बहुत अधिक नुकसान नहीं हुआ क्योंकि ये तय शुल्क पर काम करते हैं।



और भी पढ़ें :