पाक ने स्वात के लिए और सैनिक भेजे

इस्लामाबाद (भाषा) | भाषा| पुनः संशोधित शुक्रवार, 8 मई 2009 (18:02 IST)
पाकिस्तान ने अशांत स्वात घाटी के लिए और सैनिकों को रवाना कर दिया है। वहाँ शुक्रवार को लगातार दूसरे दिन भीषण संघर्ष जारी है। इसमें अब तक 60 से अधिक आतंकवादी मारे जा चुके हैं। अधिकारियों ने सेना को तालिबान लड़ाकों के सफाए का आदेश दिया है।


एक टेलीविजन चैनल ने बताया कि पाकिस्तानी लड़ाकू विमानों और हेलिकाप्टर गनशिप ने कबाल समेत तालिबान के कई गढ़ों पर शुक्रवार को बमबारी की। इसमें कम से कम 12 आतंकवादी मारे गए।

संघर्ष तेज होने पर सेना ने टैंकों,लड़ाकू विमानों और भारी तोपों को तालिबान लड़ाकों को मिंगोरा और ग्रामीण क्षेत्रों में बने उनके ठिकानों से खदेड़ने के लिए लगा दिया है। इस बीच डर के मारे लोगों का इलाके से शहरों की ओर पलायन जारी है।

अब तक स्वात घाटी से तीन लाख लोग पश्चिमोत्तर सीमांत प्रांत के अन्य हिस्सों और सरकार की ओर से चलाए जा रहे राहत शिविरों की ओर पलायन कर चुके हैं। मिंगोरा और उससे सटे बुनेर और दीर जिले से भी भीषण संघर्ष की खबरें मिली हैं।


तालिबान के खिलाफ पाकिस्तानी सेना तीन मोर्चों पर आगे बढ़ रही है। सेना ने बुनेर, दीर और स्वात में तालिबान के खिलाफ मोर्चा खोल रखा है लेकिन सबसे भीषण संघर्ष का समाचार स्वात घाटी से मिला है। वहाँ 700 से अधिक आतंकवादी सेना को कड़ी टक्कर दे रहे हैं।
स्वात में अब तक के अभियान में 60 से अधिक आतंकवादी मारे जा चुके हैं। बुनेर में दो तालिबान कमांडरों मौलाना मोहम्मद आलम खलील और मौलाना यासीर ने दावा किया कि आतंकवादियों ने सुरक्षा बलों को भारी नुकसान पहुँचाया है और उनसे हथियार लूट लिए हैं।

क्षेत्र में आतंकवादियों के एक अन्य कमांडर मौलाना खलीलुर रहमान ने दैनिक द न्यूज से कहा कि तालिबान शरिया या इस्लामी कानून लागू करवाने के लिए वर्षों तक लड़ने के लिए तैयार हैं।
उन्होंने कहा कि अगर सरकार ने शरिया कानून लागू करने में गंभीरता दिखाई तो तालिबान संघर्ष विराम की घोषणा करेगा और हथियार डालेगा।

मुख्य सैन्य प्रवक्ता मेजर जनरल अतहर अब्बास ने कहा हमने स्वात घाटी में आतंकवादियों के शीर्ष नेतृत्व को पकड़ने का फैसला किया है। सैन्य प्रमुख जनरल अशफाक परवेज कयानी ने कहा कि सेना आतंकवादियों पर आधिपत्य कायम करने के लिए सारे संसाधन झोंक देगी।



और भी पढ़ें :