सुबह आई है, मुलाकात करो

WDWD
सुबह आई है, मुलाकात करो

सुन कि आवाज लगाती है तुझे

नींद से कब से जगाती है तुझे

दे रही द्वार पे दस्तक कब से

जिंदगी कब से बुलाती है तुझे

रातभर स्वप्न सँजोने वाले

नींद की बाँह में खोने वाले

जाग जा धूप निकल आई है

देर हो जाएगी सोने वाले

देख तो ले मिजाज मौसम का

किरणें चखती हैं स्वाद शबनम का

क्यों न सुनता वसंत की आहट

WDWD
नाद यह जिंदगी के सरगम का

सुबह आई है मुलाकात करो

फिर कुशलक्षेम जरा ज्ञात करो

गीत आने दो नया होंठों पर

चन्द्रसेन विराट
ये नया दिन है, नई बात करो।



और भी पढ़ें :