स्लमडॉग मिलियनेयर

Slumdog
IFM
निर्माता : क्रिश्चियन कॉलसन, टेसा रॉस, पॉल स्मिथ
निर्देशक : डैनी बॉयले
संगीत : ए.आर. रहमान
कलाकार : देव पटेल, फ्रिडा पिंटो, अनिल कपूर, इरफान खान,

जमाल मलिक (देव पटेल) नाम का एक युवक अचानक ही पूरी दुनिया में चर्चा का विषय बन जाता है क्योंकि कॉल सेन्टर में काम करने वाला यह चायवाला अचानक ही प्रसिद्ध शो 'हू बिकम मिलियनेयर' में विजेता बनकर करोड़ों रुपए का मालिक बन जाता है।

शो के होस्ट प्रेम कुमार (अनिल कपूर) और पुलिस का मानना है कि उसने धोखे से यह प्रतियोगिता जीती है। पुलिस इंस्पेक्टर (इरफान खान) जानना चाहता है कि आखिर वह मिलियनेयर कैसे बना।

Slumdog
IFM
जमाल का बचपन मुंबई की झोपड़ पट्टियों में बीता था। अमिताभ का फैन जमाल एक बार तो अमिताभ का आटोग्राफ पाने के लिए गंदे नाले में डुबकी भी लगा लेता है।

मुंबई दंगों में अपनी माँ की मौत के बाद जमाल अपने भाई व लतिका (फ्रिडा पिन्टो) नाम की एक लड़की के साथ जिसने दंगों में अपने परिवार को गँवाया है, उन लोगों के हाथ लग जाते हैं, जो मुंबई में बच्चों से भीख मँगवाते हैं। किसी तरह जमाल और सलीम इन लोगों के चंगुल से भाग निकलते हैं, लेकिन लतिका उनके साथ नहीं भाग पाती है।

दोनों भाई भागकर आगरा पहुँचते हैं, लेकिन वहाँ पर भी नसीब को साथ देता हुआ न देख दोनों वापस मुंबई का रुख करते हैं। जमाल लतिका को अब तक भूला नहीं है। वह हर दिन उसे ढूँढने के लिए निकल पड़ता है, आखिर में एक अंधे भिखारी बच्चे की मदद से वह लतिका तक पहुँच जाता है जो बदकिस्मती से अब मुंबई के रेडलाइट एरिया में पहुँच गई है। दोनो भाई उसे वहाँ से छुड़वाते हैं पर इस दौरान सलीम के हाथों एक हत्या हो जाती है और जमाल एक बार फिर अपने प्यार और भाई को खो देता है।

समय ताम्रकर|
Anil
IFM
अब जमाल युवा हो चुका है, वह एक बहुत बड़े कॉल सेन्टर में मामूली चाय वाले की नौकरी करता है। कभी-कभी वह खुद भी कॉल सेन्टर के कर्मचारियों का काम संभाल लेता है। कई सालों के बाद वह अपने बड़े भाई को फिर से मिलता है जो अब जावेद भाई (महेश माँजरेकर) के लिए काम करता है। जावेद भाई के पास उसका प्यार लतिका है। इसी बीच जमाल को 'हू बिकम मिलियनेयर' से न्योता मिलता है और आखिर में वह पैसों के साथ-साथ अपने प्यार को पाने में भी सफल होता है।



और भी पढ़ें :