अक्टूबर 09 : ज्योतिष की नजर में

18 अक्टूबर को गोवर्धन पूजा शुभ होगी

Author पं. सुरेन्द्र बिल्लौरे|
ND
4 से बुध कन्या राशि में प्रवेश करेगा। इसका परिणाम यह होगा कि शकर एवं स्वर्ण के भाव में उतार-चढ़ाव रहेगा। 5 अक्टूबर को मंगल कर्क राशि में प्रवेश करने जा रहा है जो कि मंगल की नीच राशि है। इसके परिणामस्वरूप सभी धान्यों में भाव तेज होगा। इसी के साथ भैंस के भाव में तेजी होगी।


10 अक्टूबर को शुक्र के कन्या राशि में प्रवेश होने से भी सभी धान्यों में भाव की तेजी होगी। इसी के कुप्रभाव स्वरूप कृषि का नाश होने के योग बनते हैं।

ND
इसका प्रभाव विशेषकर चावल पर पड़ेगा। चावल अधिक महँगे होंगे। इस माह चतुर्ग्रही योग बन रहे हैं जिसके परिणामस्वरूप जल प्लावन का खतरा बढ़ जाएगा अथवा रक्तपात होगा एवं इस माह पशुओं पर विपत्ति आएगी। 17 अक्टूबर को सूर्य तुला राशि में प्रवेश करेगा जिसके फलस्वरूप पूर्व तथा उत्तर के देशों में कष्ट होंगे एवं बालकों को पीड़ा रहेगी।
दक्षिण के देशों में युद्ध का भय बना रहेगा। इसी के साथ पश्चिम के देशों में सुख मिलने के योग बनते हैं। अक्टूबर मध्य में तेज वर्षा से हानि होने की संभावना बनती है। 24 अक्टूबर को बुध ग्रह तुला राशि में प्रवेश करेगा। इसके फलस्वरूप वर्षा के योग बनते हैं तथा पृथ्वी पर अशांति का माहौल बनेगा एवं युद्ध का वातावरण निर्मित होगा।

ND
23 अक्टूबर को धनिष्ठा में बृहस्पति प्रवेश करेंगे। इसका प्रभाव आएगा। शुभ, आरोग्य एवं धरती माँ से पर्याप्त धन की प्राप्ति होगी। इस माह 19 अक्टूबर को गोवर्धन पूजा है परंतु इस दिन चंद्रदर्शन होंगे (भाईदूज)। शास्त्रों के अनुसार प्रतिपदा पर चंद्रदर्शन हो तो गोवर्धन पूजा नहीं करना चाहिए एवं बलिपूजा का कार्य भी नहीं करना चाहिए। अत: इस वर्ष गोवर्धन पूजा 18 अक्टूबर को ही करें।
मौसम पर दृष्टि डालें तो सूर्य के साथ बुध की स्थिति से कहीं तेज आँधी, तूफान तथा कहीं तेज बादल के साथ बूँदाबाँदी होगी। कुछ भागों में साधारण वर्षा एवं हल्की खंड वृष्टि होने से शीत का वातावरण बनेगा। पर्वतीय क्षेत्रों में शीत बढ़ेगी। मौसम प्रकृति में बदलाव लाते हैं। ग्रहों का उन पर पूर्ण प्रभाव पड़ता है, अत: प्रकृति से खिलवाड़ मनुष्य के लिए दुःखद होता है।



और भी पढ़ें :