0

श्री विश्वकर्मा चालीसा : विश्वकर्मा जयंती पर इस पढ़ने से मिलती है मनचाही संपत्ति

सोमवार,सितम्बर 16, 2019
Vishwakarma Chalisa
0
1
भगवान विश्वकर्मा जी की आरती। ॐ जय श्री विश्वकर्मा प्रभु जय श्री विश्वकर्मा। सकल सृष्टि के कर्ता रक्षक श्रुति धर्मा ॥ ...
1
2
आरती राधाजी की कीजै। टेक... कृष्ण संग जो कर निवासा, कृष्ण करे जिन पर विश्वासा। आरती वृषभानु लली की कीजै। ...
2
3
राधाजी का कवच श्रीब्रह्मवैवर्त पुराण से लिया गया है। कृष्णप्रिया राधाजी को वृंदावन की अधीश्वरी माना जाता है। अत: कृष्ण ...
3
4
कृष्णप्रिया राधा की पवित्र आरती- आरती राधाजी की कीजै। टेक... कृष्ण संग जो कर निवासा, कृष्ण करे जिन पर विश्वासा।
4
4
5
ॐ नमस्ते गणपतये। त्वमेव प्रत्यक्षं तत्वमसि त्वमेव केवलं कर्ताऽसि त्वमेव केवलं धर्ताऽसि त्वमेव केवलं हर्ताऽसि
5
6
यह 108 गजानन नाम श्री गणेश को प्रसन्न करते हैं और वे यश, कीर्ति, पराक्रम, वैभव, ऐश्वर्य, सौभाग्य, सफलता, धन, धान्य, ...
6
7
Ganesh Chalisa- जय गणपति सद्गुण सदन कविवर बदन कृपाल। विघ्न हरण मंगल करण जय जय गिरिजालाल॥ जय जय जय गणपति राजू। मंगल भरण ...
7
8
शेंदुर लाल चढ़ायो अच्छा गजमुखको। दोंदिल लाल बिराजे सुत गौरिहरको। हाथ लिए गुडलद्दु सांई सुरवरको।
8
8
9
गणपति की आरती- जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा माता जाकी पार्वती पिता महादेवा ॥
9
10
यश, सुख, समृद्धि, धन-वैभव, पराक्रम, सफलता, खुशी, संतान, नौकरी, प्रेम जैसे 10 बड़े आशीष पाने हैं तो जन्माष्टमी के दिन ...
10
11
श्री कृष्ण अष्टकम् पढ़ें सम्पूर्ण श्लोक- चतुर्मुखादि-संस्तुं समस्तसात्वतानुतम्‌। हलायुधादि-संयुतं नमामि राधिकाधिपम्‌॥1॥
11
12
कृष्ण स्तुति नमो विश्वस्वरूपाय विश्वस्थित्यन्तहेतवे। विश्वेश्वराय विश्वाय गोविन्दाय नमो नमः॥1॥
12
13
कृष्णजी की आरती- आरती कुंजबिहारी की श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की। गले में बैजन्तीमाला बजावैं मुरलि मधुर बाला॥
13
14
Jain Chalisa- शीश नवा अरिहंत को, सिद्धन करूं प्रणाम। उपाध्याय आचार्य का ले सुखकारी नाम। सर्व साधु और सरस्वती, जिन मंदिर ...
14
15
वन्देऽहं शीतलां-देवीं, रासभस्थां दिगम्बराम् । मार्जनी-कलशोपेतां, शूर्पालङ्कृत-मस्तकाम् ।।1।। वन्देऽहं शीतलां-देवीं, ...
15
16
मां शीतला एक प्रसिद्ध हिन्दू देवी हैं। इस देवी की महिमा प्राचीनकाल से ही बहुत अधिक है। यहां पाठकों के लिए प्रस्तुत हैं ...
16
17
ॐ रक्ष-रक्ष जगन्माते देवि मङ्गल चण्डिके। हारिके विपदार्राशे हर्षमंगल कारिके।। हर्षमंगल दक्षे च हर्षमंगल दायिके।
17
18
जय मंगला गौरी माता, जय मंगला गौरी माता ब्रह्मा सनातन देवी शुभ फल कदा दाता। जय मंगला गौरी माता, जय मंगला गौरी माता।।
18
19
जय गंगाधर हर शिव, जय गिरिजाधीश। त्वं मां पालन नित्यं कृपया जगदीश... हर हर महादेव
19