0

गुप्त नवरात्रि विशेष : Gupt Navratri में पढ़ें श्री दुर्गा चालीसा- नमो नमो दुर्गे सुख करनी

बुधवार,जून 29, 2022
0
1
गुप्त नवरात्रि में प्रतिदिन सुबह-सायंकाल देवी दुर्गा की विशेष पूजा-अर्चना के बाद श्रद्धापूर्वक आरती करने से मां प्रसन्न होती है। यहां पढ़ें दुर्गा मैया की आरती-Durga Maa ki Aarti
1
2
Ganga Chalisa जय जग जननि अघ खानी, आनन्द करनि गंग महरानी । जय भागीरथि सुरसरि माता, कलिमल मूल दलनि विखयाता ।।
2
3
आरती कीजै नरसिंह कुंवर की। वेद विमल यश गाऊं मेरे प्रभुजी।। पहली आरती प्रह्लाद उबारे, हिरणाकुश नख उदर विदारे।
3
4
मास वैशाख कृतिका युत, हरण मही को भार। शुक्ल चतुर्दशी सोम दिन, लियो नरसिंह अवतार।। धन्य तुम्हारो सिंह तनु, धन्य तुम्हारो नाम। तुमरे सुमरन से प्रभु, पूरन हो सब काम।।
4
4
5
Hanuman chalisa path: हनुमान चालीसा का पाठ करने के बाद लाभ प्राप्त नहीं हो रहा है और न ही संकट दूर हो रहे हैं तो जरूर आप कुछ न कुछ ऐसी भूल कर रहे हैं जिससे हनुमानजी का आपकी ओर ध्यान नहीं जा रहा है या उनकी कृपा आप पर नहीं हो रही है। आओ जानते हैं कि ...
5
6
एकादशी की आरती। एकादशी माता की आरती...इस आरती में सभी एकादशियों के नाम शामिल है। ॐ जय एकादशी, जय एकादशी, जय एकादशी माता। विष्णु पूजा व्रत को धारण कर, शक्ति मुक्ति पाता ।। ॐ।।
6
7
श्री हनुमान चालीसा (हिन्दी अर्थ सहित) श्री गुरु महाराज के चरण कमलों की धूलि से अपने मन रूपी दर्पण को पवित्र करके श्री रघुवीर के निर्मल यश का वर्णन करता हूं, जो चारों फल धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष को देने वाला है। श्री गुरु चरण सरोज रज, निज मन मुकुरु ...
7
8
श्री राम रक्षा स्तोत्र का पाठ करने से सभी विपत्तियों का नाश होता है तथा मनुष्य भयरहित होकर सुख-संपत्ति, वैभवपूर्ण जीवन जीता है और दीर्घायु होता है। यहां पढ़ें सम्पूर्ण पाठ-Ram Raksha Stotra
8
8
9

Mahavir jayanti special : श्री महावीर चालीसा

मंगलवार,अप्रैल 5, 2022
महावीर स्वामी जैन धर्म के 24वें तीर्थंकर हैं। महावीर जयंती के दिन महावीर चालीसा (Mahavira Chalisa) का पाठ करने से जीवन में खुशियों का आगमन होता है। यहां पढ़ें सम्पूर्ण पाठ-
9
10
Gangaur 2022 गणगौर के पावन पर्व पर मां पार्वती या गौरी माता की आरती करके उन्हें प्रसन्न‍ किया जाता है। यहां पढ़ें आरती...
10
11
इस वर्ष चैत्र नवरात्रि (Navratri 2022) का पावन पर्व शनिवार, 2 अप्रैल 2022 से शुरू हो रहा है। नवरात्रि में 9 दिनों दुर्गा आराधना के साथ ही चालीसा, स्तोत्र, स्तुति पढ़ने से मां दुर्गा प्रसन्न होती हैं और हर संकट दूर करती है। यहां पाठकों के लिए ...
11
12
ॐ जय श्री श्याम हरे, बाबा जय श्री श्याम हरे। खाटू धाम विराजत, अनुपम रूप धरे। ॐ जय श्री श्याम हरे.. रतन जड़ित सिंहासन, सिर पर चंवर ढुरे। तन केसरिया बागो, कुंडल श्रवण पड़े। ॐ जय श्री श्याम हरे.. यहां पढ़ें बाबा खाटू श्याम की पवित्र आरती... 15 ...
12
13
श्याम-श्याम भजि बारंबारा। सहज ही हो भवसागर पारा। इन सम देव न दूजा कोई। दिन दयालु न दाता होई।।
13
14
महाशिवरात्रि के दिन भगवान शिव जी की पूजा-आराधना, आरती, चालीसा, शिवाष्टक आदि का पाठ करने से शिव प्रसन्न होकर कृपा बरसाते हैं। यहां पढ़ें शिव जी की 3 विशेष आरतियां...
14
15
हिन्दू धर्मशास्त्रों के अनुसार भगवान सूर्य (Surya) एकमात्र ऐसे देवता हैं, जो साक्षात दिखाई पड़ते हैं। प्रतिदिन सूर्य की आराधना करते वक्त श्री सूर्य चालीसा (Shree Surya Chalisa) का पाठ करना बहुत ही
15
16
शिव जी की आरती : इन 5 आरतियों से होती है भोलेनाथ की आराधना
16
17
मां नर्मदा के दर्शन मात्र से जीवन में पवित्रता आती है। इसकी गणना देश की 5 बड़ी एवं 7 पवित्र नदियों में होती है। मां नर्मदा की जयंती पर पढ़ें नर्मदा देवी का पवित्र स्तोत्र श्री नर्मदाष्टकम (narmadashtak)-
17
18
आज मां नर्मदा जी की जयंती है। यह प्रतिवर्ष (narmada jayanti) माघ मास के शुक्ल पक्ष की सप्तमी तिथि को मनाई जाती है। यहां पढ़ें माता नर्मदा (Maa Narmada) की आरती-
18
19
वीणावादिनी, मंद-मंद मुस्कुराती, हंस पर विराजमान होकर मां सरस्वती मानव जीवन के अज्ञान को दूर कर ज्ञान के प्रकाश से आलोकित करती हैं। पढ़ें संपूर्ण सरस्वती चालीसा :
19