खुशियां आती है मन के द्वार तो खोलिए....

WD|
ज़िंदगी जीना बहुत आसान है लेकिन हम लोग गलतियां करके उसे मुश्किल बना देते हैं। हर कोई जीवन में खुश रहना चाहता है, सकारात्मक होना चाहता है, अधिक क्रिएटिव और प्रोडक्टिव होना चाहता है। 
भरपूर पैसा और समाज में सम्मान पाना सभी का लक्ष्य होता है। लेकिन इस को और उसके आनंद को पाने के लिए हम क्या करते हैं?.. कुछ नहीं।
 
क्या आप जानते हैं कि अच्छा परिवार, सच्चे दोस्त, बेहतर स्वास्थ्य और आर्थिक सुरक्षा एक सुखी जीवन के लिए पर्याप्त है, लेकिन हम अपनी पूरी ज़िंदगी लोगों के साथ खुद की तुलना करने में लगा देते हैं। अपने आपको भाग्यशाली मानने की बजाय अतिमहत्वाकांक्षी हो जाते हैं और उस चक्कर में ज़िंदगी का असली स्वाद लेना भूल जाते हैं। 
याद रखें ज़िंदगी एक बार मिलती है इसलिए जब भी कोई लक्ष्य निर्धारित करें तो उसे प्राप्त करने के लिए इमानदारी से पूरी कोशिश करें और अंत में क्या होगा इसकी चिंता किए बिना प्रयास करें। अपने लक्ष्य को पा लेने के बाद आप संतुष्टि और आनंद का अनुभव करेंगे। कई लोगों को भविष्य के बारे में चिंता करने की आदत-सी होती है।
 
ऐसा करने से वे वर्तमान का महत्व कम कर देते हैं। ऐसा लगातार करने से वे नकारात्मक विचारों से घिरे रहते हैं और दुखी होते रहते हैं। अगर याद ही करना है तो अतीत की सुखद घटनाओं को याद करें जो आपको खुशी दे। भविष्य तब ही सुनहरा होगा जब आप वर्तमान में कुछ उद्देश्यपूर्ण काम करेंगे। आपके आज के ही कामों से आपका भविष्य सुरक्षित होगा।
 
 
अगले पन्ने पर, ऐसे आएंगी खुशियां...



और भी पढ़ें :