लॉकडाउन में अपनाएं वास्तु के ये 5 टिप्स और गृह कलह से बचें एवं खुशहाल रहें

grah kalesh nivaran
अनिरुद्ध जोशी| Last Updated: मंगलवार, 14 अप्रैल 2020 (15:16 IST)
के दौरान आप अपने घर को साफ-सुथरा रखने के साथ ही कुछ ऐसे कार्य भी करें जिससे घर में गृहकलह से बचकर प्रसन्न और खुशहाल रहें। आओ जानते है वास्तु के ऐसे ही 5 उपाय।

1. पोंछा लगाएं इनसे : फिटकरी के पानी में समुद्री नमक मिलाकर किचन और फर्श पर पोंछा लगाएं। चाहें तो समुद्र नमक में थोड़ा नींबू का रस और कर्पूर भी मिला लें। इसी घोल को बाथरूम और शौचालय में भी उपयोग कर सकते हैं।

बाथरूम में खड़े नमक या फिटकरी से भरा एक कटोरा रखें। हर महीने इस कटोरे के नमक या फिटकरी को बदलते रहें। माना जाता है कि हवा में मौजूद नमी के साथ-साथ यह नमक आसपास की नकारात्मक ऊर्जाओं को भी अपने अंदर समाहित कर लेता है। इससे सकारात्मकता का लेवल बढ़ता है।

2. खिड़की और दरवाजें : फिटकरी में एंटी-बैक्टीरियल गुण पाए जाते हैं। फिटकरी और कर्पूर के छोटे-छोटे टुकड़े को खिड़की, दरवाजा या बॉलकनी में रखने देने से जहां वास्तु दोष दूर होता है वहीं इसके प्रभाव से नकारात्मक ऊर्जा घर में प्रवेश नहीं करती है।

3. धूप दें : हिन्दू धर्म में षोडशांग धूप अर्थात 16 प्रकार की धूप देने का उल्लेख मिलता है। अगर, तगर, कुष्ठ, शैलज, शर्करा, नागरमाथा, चंदन, इलाइची, तज, नखनखी, मुशीर, जटामांसी, कर्पूर, ताली, सदलन और गुग्गुल। इसके अलावा भी अन्य मिश्रणों का भी उल्लेख मिलता है। इसमें आम, नीम की छाल मिलाकर धूप भी धूप देते हैं।

या उपले (कंडे) जलाकर यह उपरोक्त सभी मिश्रित सामग्री उस पर डाल दें और उसका धुआं संपूर्ण घर में फैलाएं। धूप देने से मन, शरीर और घर में शांति की स्थापना होती है। रोग और शोक मिट जाते हैं। गृहकलह, पितृदोष और आकस्मिक घटना-दुर्घटना नहीं होती। घर के भीतर व्याप्त सभी तरह की नकारात्मक ऊर्जा बाहर निकलकर घर का वास्तुदोष मिट जाता है। ग्रह-नक्षत्रों से होने वाले छिटपुट बुरे असर भी धूप देने से दूर हो जाते हैं।

4. कर्पूर जलाएं : घर में प्रतिदिन सुबह और शाम को कर्पूर जलाना चाहिए। माना जाता है कि कर्पूर किसी भी स्थान की नकारात्मक ऊर्जा को दूर करता है और सकारात्मक ऊर्जा का संचार करता है। इसकी सुगंध से मन एवं मस्तिष्क को शांति मिलती है। हर तरह का तनाव हट जाता है।

शास्त्रों के अनुसार देवी-देवताओं के समक्ष कर्पूर जलाने से अक्षय पुण्य प्राप्त होता है। कर्पूर जलाने से देवदोष, काल सर्पदोष व पितृदोष का शमन होता है। घर में यदि सकारात्मक उर्जा और शांति का निर्माण करना है तो प्रतिदिन सुबह और शाम कर्पूर को घी में भिगोकर जलाएं और संपूर्ण घर में उसकी खुशबू फैलाएं। ऐसा करने से घर की नकारात्मक ऊर्जा नष्ट हो जाएगी। दु:स्वप्न नहीं आएंगे और घर में अमन शांति बनी रहेगी। दि घर के किसी स्थान पर वास्तु दोष निर्मित हो रहा है तो वहां एक कर्पूर की 2 टिकियां रख दें। जब वह टिकियां गलकर समाप्त हो जाए तब दूसरी दो टिकिया रख दें। इस तरह बदलते रहेंगे तो वास्तुदोष निर्मित नहीं होगा।

5. से बचने के लिए करें ये कार्य:-
लॉकडाउन के चलते इस वक्त सभी लोग घर में ही है। यह सुनने में आ रहा है कि घर में ही रहकर अप गृहकलह बढ़ने लगे हैं। बच्चे और महिलाएं संकट में हैं। ऐसे में घर में खुशनुमान माहौल नहीं रहता। सभी के चेहरे लटके हुए या उदासी से भरे हुए रहते हैं। यदि ऐसा है तो आप करें निम्नलिखित 6 कार्य।

1. कहीं से ऐसे चित्र लेकर आएं जिसमें हंसता-मुस्कुराता संयुक्त परिवार हो। उसे लाकर आप अपने अतिथि कक्ष में लगा दें, जहां पर सभी की नजर आते-जाते पड़ती रहें। यदि आप दूसरों के चित्र न लगाना चाहते हैं तो खुद के ही परिवार के सदस्यों का प्रसन्नचित्त मुद्रा में दक्षिण-पश्चिम दिशा के कोने में एक तस्वीर लगाएं। इसमें परिवार के सभी सदस्य होने चाहिए और उनके चेहरे प्रसन्नचित्त मुद्रा में होने चाहिए।

2. यदि पति और पत्नी में तनाव है या किसी कारणवश प्यार का संबंध स्थापित नहीं हो पा रहा है तो आप अपने शयन कक्ष में राधा-कृष्ण का एक सुंदर-सा चित्र लगा सकते हैं।

3. यदि आप राधा-कृष्ण का चित्र नहीं लगा सकते हैं तो हंसों के जोड़े का सुंदर-सा मन को भाने वाला चित्र लगा सकते हैं।

4. इसके अलावा हिमालय, शंख या बांसुरी के चित्र भी लगा सकते हैं। ध्यान रखें, उपरोक्त में से किसी भी एक का ही चित्र लगाएं।
5. यदि शयन कक्ष अग्निकोण में हो तो पूर्व-मध्य दीवार पर शांत समुद्र का चित्र लगाना चाहिए।

6. शयन कक्ष के अंदर भूलकर भी पानी से संबंधित चित्र न लगाएं, क्योंकि पानी का चित्र पति-पत्नी और 'वो' की ओर इशारा करता है।




और भी पढ़ें :