ओलंपिक्स के बाद अब पैरालंपिक्स में भारत भेजेगा अब तक का सबसे बड़ा दल

पुनः संशोधित गुरुवार, 12 अगस्त 2021 (19:48 IST)
नई दिल्ली:की राजधानी टोक्यो में आगामी 24 अगस्त से शुरू हो रहे पैरालंपिक खेलों में रियो 2016 के स्वर्ण पदक विजेता मरियप्पन थंगावेलु भारतीय पैरालंपिक समिति (पीसीआई) के महासचिव गुरशरण सिंह के साथ भारत के ध्वजवाहक होंगे।

ओलंपिक एथलीटों की तरह पैरालंपिक एथलीटों में भी उत्साह भरने और उन्हें शुभकामनाएं देने के लिए भारतीय पैरालंपिक समिति ने गुरुवार को विदाई समारोह का आयोजन किया। दिल्ली के अशोका होटल में आयोजित इस समारोह में पैरालंपिक समिति के महासचिव गुरशरण सिंह, अध्यक्ष दीपा मलिक और अन्य पदाधिकारियों के साथ-साथ केंद्रीय पर्यटन एवं संंस्कृति मंंत्री जी किशन रेड्डी और विदेश एवं संस्कृति राज्य मंत्री मीनाक्षी लेखी भी मौजूद रहे। पैैरालंपिक खेलों में भाग लेने वाले एथलीट सख्त बायो-बबल में होने के कारण वर्चुअल रूप से समारोह में शामिल हुए। इस मौके पर पीसीआई पदाधिकारियों और मंत्रियों ने एथलीटों की हौसलाफजाई की और उन्हें शुभकमनाएं दीं।
जी किशन रेड्डी ने मोदी सरकार की योजना में खेलों के महत्व पर जोर देते हुए कहा, “ हमने अपने एथलीटों की तैयारी में कोई कसर न छोड़ने का प्रयास किया है और हम देश के लिए सबसे अधिक सफल पैरा खेलों की उम्मीद कर रहे हैं। ”

मीनाक्षी लेखी ने कहा, “ हमारे पैरा एथलीट हमारे असली हीरो हैं। हम आपको गर्मजोशी से विदाई दे रहे हैं, लेकिन बात यहीं खत्म नहीं हाेती, जब आप शानदार प्रदर्शन करके वापस आएंगे तो हम फिर से आपका स्वागत करने के लिए तैयार होंगे। ”
गुरशरण सिंह ने कहा, “ यह पहली बार होगा कि पैरा खेलों का दो स्पोर्ट्स चैनलों पर लाइव प्रसारण होगा और हम यूरास्पोर्ट्स और डीडी स्पोर्ट्स के यह अधिकार प्राप्त होने से खुश हैं। देशवासी पैरा एथलीटों का लाइव एक्शन देख सकते हैं और उनकी पदक जीतों का आनंद ले सकते हैं। ”

दीपा मलिक ने कहा, “ 2020 के बाद खेल फिर से पहले जैसे नहीं होंगे। हम पदकों की एक रिकॉर्ड संख्या देखने को उत्सुक हैं, क्योंकि हमारे एथलीट शानदार फॉर्म में हैं। ”
उल्लेखनीय है कि इस बार नौ विभिन्न क्षेत्रों के रिकॉर्ड 54 पैरा एथलीट टोक्यो पैरालंपिक खेलों 2020 में भाग ले रहे हैं। वहीं भारतीय पैरालंपिक दल इस बार पैरालंपिक खेलों के अभियान को देश के सबसे सफल अभियानों में से एक बनाने को लेकर काफी आश्वस्त है, क्योंकि कई एथलीट पहले से ही अपनी-अपनी खेल श्रेणी में शीर्ष रैंकिंग पर हैं।
बेशक कोरोना महामारी के कारण सभी के लिए बहुत कठिन समय रहा है, लेकिन भारतीय पैरालंपिक समिति ने विभिन्न प्रमुख कोचों की मदद से ऐसा शैड्यूल बनाया है, जो एथलीटों को न केवल शारीरिक तौर पर, बल्कि मानसिक तौर पर भी सही अवस्था में लाया है।
पहली बार बैडमिंटन को पैरालंपिक खेलों में शामिल किया गया है, जिसमें भारत की तरफ से सात बैडमिंटन खिलाड़ी अपनी चुनौती पेश करेंगे। देशवासियों के लिए इस बार खास बात यह है कि वह पैरालंपिक खेलों का लाइव प्रसारण देख सकेंगे। 24 अगस्त से पांच सितंबर तक यूरोस्पोर्ट्स इंडिया और डीडी स्पोर्ट्स पर खेलों का लुत्फ उठाया जा सकेगा। भारत 27 अगस्त को पुरुष और महिला तीरंदाजी इवेंट्स के साथ अपने अभियान की शुरुआत करेगा।(वार्ता)



और भी पढ़ें :