खेल मंत्री रिजिजू को टोक्यो ओलंपिक में अधिक पदक की उम्मीद नहीं

Last Updated: गुरुवार, 10 अक्टूबर 2019 (18:20 IST)
नई दिल्ली। केंद्रीय खेल मंत्री किरेन रिजिजू ने कहा है कि 2020 में होने जा रहे में अधिक जीतना थोड़ा मुश्किल है लेकिन वर्ष 2024 और 2028 के ओलंपिक में दहाई की संख्या में पदक जीतने का प्रयास करेगा, यहीं नहीं हम पदक जीतने वाले शीर्ष दस देशों की सूची में शामिल होने के लिए पुरज़ोर कोशिश करेंगे।
रिजिजू ने बुधवार को यहां भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) द्वारा आयोजित इंडिया स्पोर्ट्स सम्मेलन में टोक्यो ओलंपिक के लिए भारतीय खिलाड़ियों की तैयारियों और पदक जीतने की उम्मीदों पर बोल रहे थे।

खेल मंत्री ने कहा कि खेल मंत्रालय देश में खेलों को बढ़ावा देने के लिए हरसंभव प्रयास कर रहा है और इसके अच्छे परिणाम भी देश को मिले हैं। खिलाड़ियों ने हाल में ऐसी प्रतियोगिताओं में पदक हासिल किए हैं, जिनमें हम पहले कभी जीत हासिल नहीं कर सके थे।
उन्होंने कहा, ये पदक इस ओर इशारा करते हैं कि हम आने वाले ओलंपिक में निश्चित तौर पर कई पदक जीतेंगे। यह बदलाव बेहद सकारात्मक है और हम इसे आगे तक ले जाने का पूरा प्रयास करेंगे।

रिजिजू ने कहा कि भारत अर्थव्यवस्था, सांस्कृतिक तथा हर क्षेत्र में बेहतर कर रहा है लेकिन खेल के क्षेत्र में बेहतर प्रदर्शन किए बिना वह विश्व गुरु नहीं बन सकता। उन्होंने कहा, हमें देश में खेलों को बढ़ावा देना होगा। पढ़ोगे लिखोगे तो बनोगे नवाब, खेलोगे कूदोगे बनोगे ख़राब, यह बेहद गलत संदेश है। खेलों ने लोगों को नई ऊंचाईयां दी हैं।

खेल मंत्री ने कहा कि वर्ष 2022 तक देश के 80 फीसदी लोगों की फिट बनाने का लक्ष्य रखा। उन्होंने कहा, अगर वर्ष 2022 तक देश के 80 फीसदी लोग फिट बनते है तभी हम एक फ़िट देश कहला सकते हैं और मुझे पूरा भरोसा है कि हम यह मुकाम हासिल कर लेंगे।

रिजिजू ने इंडियन प्रीमियर लीग, प्रो कबड्डी लीग और इंडियन सुपर लीग जैसी लीग की प्रशंसा करते हुए कहा कि इन लीग ने उन खिलाड़ियों को भी नई पहचान दी है, जिन्हें अंतराष्ट्रीय स्तर पर खेलने का मौका नहीं मिलता है।
सीआईआई भारत सरकार की फ़िट इंडिया मुहिम से आधिकारिक तौर पर जुड़ा है जिसका उद्देश्य भारत को पांच खरब डॉलर वाली अर्थव्यवस्था बनाने के लिए खेल एवं फिट्नेस से जुड़ी इंडस्ट्री के व्यापार को 10 अरब डॉलर तक ले जाना है।

खेल मंत्री ने कहा कि खेल इंडस्ट्री में रोजगार के लिए अपार संभावनाएं है। वर्ष 2024 तक भारत को 5 खरब की अर्थव्यवस्था बनाने में खेल इंडस्ट्री बड़ा योगदान दे सकती है।
सीआईआई के अध्यक्ष संजय गुप्ता ने कहा, हम फिट इंडिया मुहिम के साथ जुड़ने पर बेहद उत्साहित है और देश में खेलों को बढ़ावा देने के लिए हम हर संभव प्रयास करेंगे।

 

और भी पढ़ें :