भारत 'सैफ कप' के सेमीफाइनल में

तिरुवनंतपुरम| पुनः संशोधित रविवार, 27 दिसंबर 2015 (22:38 IST)
तिरुवनंतपुरम। छांगटे लालियांजुआला भारत के लिए गोल करने वाले सबसे युवा फुटबॉलर हो गए और उनके दो गोल की मदद से भारत ने नेपाल को आखिरी ग्रुप मैच में 4-1 से हराकर (सैफ कप) के फाइनल में प्रवेश कर लिया।
 
भारत के अलावा ग्रुप-ए से श्रीलंका ने भी अंतिम चार में जगह बनाई है। भारत ग्रुप मैचों में अपराजेय रहा, जिसने पहले मैच में श्रीलंका को 2-0 से हराया था।
 
अठारह बरस के लालियांजुआला ने 81वें और 90वें मिनट में गोल किया। इससे पहले रोलिन बोर्गेस (26वां मिनट) और कप्तान सुनील छेत्री (71वां मिनट) ने गोल किए थे।
 
नेपाल के लिए तीसरे ही मिनट में बिमल मगार ने गोल करके बढ़त बना ली थी। नेपाल ने आक्रामक शुरुआत करते हुए तीसरे ही मिनट में पहला गोल किया। नवयुग श्रेष्ठा का शॉट पोस्ट के पास जाकर लगा और मागर के सामने गेंद आ गई, जिसने रिबाउंड पर गोल किया। 
 
मागर ने 14वें मिनट में एक और शॉट लगाया, लेकिन कामयाबी नहीं मिली। पहले 16 मिनट में नेपाल का दबदबा रहा, जिसने गोल पर चार बार हमले बोले, जबकि भारत एक भी हमला नहीं कर सका।
 
भारत को पहला हमला करने में 20 मिनट लगे। होलिचरण नरजारी ने बॉक्स के बाहर से पहला शॉट लगाया, लेकिन नेपाल के गोलकीपर किरण चेमजोंग ने इसे बचा लिया।
 
भारत ने बराबरी का गोल 26वें मिनट में किया, जब बोर्गेस ने नारायण दास की फ्रीकिक को गोल में बदला। हॉफ टाइम तक स्कोर 1-1 था।
 
दूसरे हॉफ में नेपाल ने मागर की जगह जगजीत श्रेष्ठा को उतारा, जबकि भारत ने संजू प्रधान की जगह लालियांजुआला को उतारा। नेपाल ने 57वें मिनट में विशाल राय की जगह योगेश गुरूंग को उतारा।
 
भारत के लिए छेत्री ने 71वें मिनट में दूसरा गोल किया। मूव की शुरुआत विकास जायरू ने की, जिसने नरजारी को गेंद सौंपी। उसने गेंद छेत्री को दी और नेपाली डिफेंडरों को छकाते हुए छेत्री ने गोल किया।
 
अपना दूसरा अंतरराष्ट्रीय मैच खेल रहे लालियांजुआला ने 81वें मिनट में भारत की बढ़त 3-1 की कर दी। उसने मैच के आखिरी मिनट में एक और गोल करके भारत को 4-1 से जीत दिलाई। (भाषा)



और भी पढ़ें :