मुंबई : अगले 3 दिन भारी बारिश, मौसम विभाग ने जारी किया रेड अलर्ट

Last Updated: गुरुवार, 22 जुलाई 2021 (18:18 IST)
मुंबई। भारतीय मौसम विज्ञान विभाग के क्षेत्रीय केंद्र ने में भारी से बहुत का पूर्वानुमान व्यक्त करते हुए 'रेड अलर्ट' जारी किया है। क्षेत्रीय मौसम विज्ञान केंद्र के प्रमुख डॉ. जयंत सरकार ने यहां कहा कि इससे पहले ने 'ऑरेंज अलर्ट' जारी किया था, लेकिन अब 'अनुकूल समसामयिक परिस्थितियों' के कारण बदलाव के बाद बुधवार के लिए इसे 'रेड अलर्ट' कर दिया गया है। मौसम विभाग ने कहा कि अगले 3 दिन भारी बारिश हो सकती है।
रायगढ़ जिले में की स्थिति : महाराष्ट्र के रायगढ़ जिले में भारी बारिश की वजह से नदियां उफना गई हैं और जिले के कई कस्बों में बाढ़ जैसी स्थिति पैदा हो गई है। अलग-अलग घटनाओं में बच्ची समेत तीन लोग नदियों में डूब गए। एक अधिकारी ने गुरुवार को यह जानकारी दी।

अधिकारी ने बताया कि कुंडलिका और सावित्री नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं और इससे क्रमश: रोहा और महाड के कई इलाकों में बाढ़ जैसी स्थिति पैदा हो गई। वहीं, उल्हास नदी का पानी सुबह में कर्जत शहर में घुस आया।

जिला प्रशासन के अनुसार महाड कस्बे में 50 वर्षीय एक व्यक्ति की सावित्री नदी में डूबने से मौत हो गई। वहीं कर्जत तालुका में 40 वर्षीय एक व्यक्ति और उनकी बेटी उल्हास नदी में बह गए। सावित्री नदी से पीड़ित संजय नारखेड़े को बाहर निकाल अस्पताल ले जाया गया लेकिन डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

वहीं दमाड गांव के निवासी इब्राहिम मनियार और उनकी बेटी उल्हास में डूब गए और उनकी तलाश जारी है। रायगढ़ के कलेक्टर ने नदियों, छोटी नदियों और तटों के निकट रहने वाले लोगों के लिए चेतावनी जारी की है। खोपोली के सिद्धार्थनगर और प्रज्ञानगर से 53 परिवारों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया गया है।
ALSO READ:

मध्यप्रदेश में शुक्रवार से गर्भवती महिलाओं का वैक्सीनेशन,डॉक्टर पल्लवी से जानें आपके हर सवाल का जवाब!
इसी तरह से खालापुर तालुका के जमरूगंगा बौधवाड़ी और बिंधकुर्धा गांव के निवासियों को जिला परिषद विद्यालय भेजा गया है। अधिकारी ने बताया कि भोर-महाड मार्ग पर वारवांडा गांव में बारिश की वजह से भूस्खलन की घटना हुई और वरंधा घाट पर वाहनों का आवागमन प्रभावित हो गया।
कलेक्टर कार्यालय की ओर से जारी आंकड़ों के अनुसार रायगढ़ में पिछले 24 घंटे में सुबह आठ बजकर 30 मिनट तक 165 मिमी बारिश हुई। माथेरन में सबसे ज्यादा 331.40 मिमी बारिश दर्ज की गई। वहीं मुरुड में सबसे कम 43 मिमी बारिश दर्ज हुई। जिले में गुरुवार सुबह तक दर्ज बारिश जिले की सालाना औसत बारिश का 70.39 फ़ीसदी है।



और भी पढ़ें :